Breaking News

उत्तर प्रेदश:- योगी जी की विकास की राहें अपनी बदहाली पर आंसू बहा रही है !
उत्तर प्रेदश:- रंगरलियां मना रहे दो जोड़ो की हुई जमकर पिटाई
देश:- प्रधानमंत्री ने कहा कि सामान्य वर्ग के गरीबों के लिए 10 प्रतिशत आरक्षण विधेयक एक ऐतिहासिक कदम है जो गरीबों के लिए सरकार की प्रतिबद्धता को दर्शाता है
देश:- स्वच्छ भारत मिशन खुले में शौच से मुक्त भारत के लक्ष्य प्राप्ति की ओर
देश:- मेघालय में पहली ‘स्वदेश दर्शन’ परियोजना का उद्घाटन
देश:- रेल संरक्षा में भारत-जापान सहयोग के लिए रेलमंत्रालय ने चर्चा रिकॉर्ड पर हस्‍ताक्षर किये |
Category

अम्बेडकरनगर

सिंगल यूज प्लास्टिक प्रदूषण को रोकने के लिए व्यापारियों ने छेड़ा मुहिम

By | अम्बेडकरनगर | No Comments

अम्बेडकरनगर : 2 अक्टूबर महात्मा गांधी के 150वी जन्म दिवस पर पर्यावरण बचाने मुहिम को लेकर हजपुरा बाजार में सिंगल यूज प्लास्टिक का उपयोग ना करने को लेकर व्यापारियों ने मुहिम चलाया। व्यापार मंडल अध्यक्ष प्रहलाद वर्मा एवं समाजसेवी अधिवक्ता बाबा राम शब्द द्वारा लोगों को कपड़े का थैला भेंट किया गया। व्यापार मंडल अध्यक्ष एवं बाबा राम शब्द द्वारा बताया गया कि स्वच्छता एवं प्रदूषण वह गोवंश की रक्षा के लिए सिंगल यूज प्लास्टिक जिसे लोगों द्वारा बाजार से खरीद कर ले जाते हैं। और उस प्लास्टिक में घरेलू सामान को रखकर फेंक देते हैं। जिससे खेतों में व कूड़ेदान में प्लास्टिक नष्ट नहीं हो पाता। और प्रदूषण फैलता है।उस प्लास्टिक को गोवंश निगल जाते हैं जिससे प्लास्टिक उनके पेट में पड़ी रहती है। इससे तमाम गोवंशो की मृत्यु हो जाती है। जिससे व्यापारियों द्वारा निर्णय लिया गया कि महात्मा गांधी के 150वी जन्मदिवस पर कसम खाया गया कि हम लोग सिंगल यूज़ प्लास्टिक का इस्तेमाल नहीं करेंगे। इस मौके पर समाजसेवी अधिवक्ता बाबा राम शब्द यादव ने व्यापारियों एवं बाजार वासियों को कपड़े का थैला प्रदान कर सभी को पर्यावरण प्रदूषण रोकने की अपील की इस मौके पर मौजूद अतुल शर्मा, प्रदीप सोनी, सुभाष गुप्ता, राम आसरे भगत, दीपक सोनी आदि व्यापारी एवं बाजार वासी मौजूद रहे।

भक्तों के उत्साह को देखकर हर संभव मदद करने के लिए तैयार : अनिल मिश्रा

By | अम्बेडकरनगर | No Comments

अम्बेडकरनगर : जिले के अकबरपुर दुर्गा पूजा महासमिति सभी मां भक्तों की सेवा के लिए 24 घंटे तात्पर्य है, समाजसेवी अनिल मिश्रा, सदस्य जिला पंचायत ने अपने कार्यालय कैंप खत्री टोला मोहल्ला शहजादपुर मे एक बैठक के दौरान उन्होंने बताया कि लगातार झमाझम बारिशों के बीच भी मां भक्तों का उत्साह में किसी प्रकार की कमी नहीं देखने को मिला, लोग मां भवानी की स्थापना के लिए बारिशों के बीच पंडालों की तैयारियां कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस भावना को देखते हुए हमारी टीम हर संभव मां भक्तों के सेवा के लिए तात्पर्य है, निस्वार्थ और सच्चे मन से लोगों की सेवा करना चाहते हैं पूजा और मेला को लेकर प्रशासन तो पूरी तरह मुस्तैद दिखती है। मगर हम सभी को मिलकर प्रशासन का पूरा सहयोग करना चाहिए, साथ ही साथ उन्होंने विनम्र निवेदन करते हुए दुर्गा पूजा के संबंध में किसी भी प्रकार की समस्या से निपटने के लिए टीम के सदस्य अनूप, विपिन आदि लोग सहयोग करेंगे।
काफी समय बाद शारदीय नवरात्र व्रत पूरे नौ दिन के हैं 29 सितंबर से प्रारम्भ होकर 8 अक्तूबर तक यह चलेंगे। 8 अक्टूबर को विजय दशमी है। इस दिन देवी प्रतिमाओं का विसर्जन होगा। बहुत समय बाद किसी तिथि का क्षय नहीं है। क्रमवार सभी नवरात्र व्रत होंगे। पहला दिन शिव शक्ति, दूसरा दिन ब्रह्म शक्ति, तीसरा दिन रुद्र शक्ति, चौथा दिन साध्य शक्ति, पांचवा दिन शिव शक्ति, सातवां दिन काल शक्ति, आठवां और नवां दिन विष्णु शक्ति का प्रतीक है। इस बीच अगर किसी भी प्रकार की सेवा की जरूरत होती है तो मां भक्तों की सेवा करने के लिए हमारी टीम सदैव तात्पर्य है। इन नंबरों पर आप अपनी समस्या से अवगत करा सकते हैं।8881989338,9451208888,9453001535,8948542834

इमाम हुसैन की शहादत दुनियां में सच्चाई की जीत का प्रतीक है : मौलाना मेंहदी

By | अम्बेडकरनगर | No Comments

ज़ाहिद नक़वी
अम्बेडकरनगर : जलालपुर तहसील क्षेत्र के कटघरमूसा मे रविवार को शबाब आलम के वालिद मरहूम मोहम्मद आलम की मजलिसे बरसी का आयोजन उनके आवास कटघर मूसा मे किया गया। मजलिस को मौलाना सरवर मेंहदी ने सम्बोधित किया। मौलाना ने इस मजलिस के ज़रिए बताया कि इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम की शहादत दुनिया मे सच्चाई की जीत का प्रतीक है। दस मोहर्रम को हज़रत इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम ने दीन की रक्षा हेतु कर्बला में भूखे-प्यासे संघर्ष करते हुए शहादत फरमाई और समाज में सच्चाई, नमाज़ ,रोज़ा व क़ुरआन व नेकी को कायम रखा है। उनकी शहादत किसी एक ख़ास कौम के लिए नहीं, बल्कि तमाम इंसानियत के लिए थी। मौलाना ने कहा कि इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम सभी मज़हब के लोगों को आपस में प्रेम भाव से रहने एवं समय पड़ने पर एक दूसरे की मदद करने की बात कही। उन्होंने कहा कि संपन्न लोग गरीबों की मदद अवश्य करें, चाहे वे किसी मज़हब या धर्म के हों। इंसान को इंसान से प्रेम का भाव हमेशा रखना कर्बला वालों ने दी है। मजलिस के अंत में जब मौलाना ने कर्बला के शहीदों का ज़िक्र किया तो मजलिस मे मौजूद मोमनीन की आँखे नम हो गई।

शनिवार से 10 दिन तक लगातार कटघर कमाल में होगी मजलिस

By | अम्बेडकरनगर | No Comments

जुलूस में आए हुए ज़्यारीनो में से किसी एक को कर्बला की ज़ियारत कराई जाएगी

ज़ाहिद नक़वी
अम्बेडकरनगर : जलालपुर तहसील क्षेत्र के सम्मनपुर कटघर कमाल में शनिवार से 10 मजलिस का आगाज हो गया है। यह मजलिस मोहम्मद साहब के नवासे हजरत इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम और उनके 72 साथियों ने कर्बला के मैदान इंसानियत और मानवता को बचाने के लिए जो बलिदान दिया था उसी की याद में हो रही है।
इस कार्यक्रम में पहली मजलिस मौलाना बकी जाफरी पढ़ेंगे। 10 दिन तक चलने वाली मजलिस में दूरदराज से लोग पहुंचते हैं। और फातिमा जहरा को उनके लाल का पुरसा देते हैं।
बनिए मजलिस सैयद मुनीस अब्बास ने बताया कि मजलिस का आगाज 28 मोहर्रम से शुरू होता है और 8 सफ़र तक चलता है। मजलिस के आखिरी दिन जुलूस निकलेगा और साथ मे अलम मुबारक और जुल्जना की ज़ियारत कराई जाएगी। जुलूस के दौरान अंजुमनों की नोहखानी करँगी। और आखरी तकरीर सैय्यद औन रिज़वी जनरलिस्ट करंगे।

चौथे इमाम की शहादत पर मजलिस व ताबूत हुआ बरामद

By | अम्बेडकरनगर | No Comments

ज़ाहिद नक़वी
अम्बेडकरनगर : जलालपुर तहसील क्षेत्र के कटघर मूसा मे शबे 25 मोहर्रम को हज़रत इमाम ज़ैनुल आब्दीन अलैहिस्सलाम की शबे शहादत पर कटघर मूसा मे दिलशाद अब्बास द्वारा आयोजित मजलिस को शिया धर्म गुरु मौलाना सैय्यद क़ैसर अब्बास रिज़वी कटौना ने बड़े ग़मगीन अंदाज़ मे संबोधित किया। मौलाना ने हज़रत इमाम ज़ैनुल आब्दीन अलैहिस्सलाम की हयाते ज़िन्दगी पर विशेष रूप से प्रकाश डाला। चौथे इमाम को सय्यदुस साजेदीन के नाम से भी जाना जाता है। क्यों कि वो सबसे ज्यादा अल्लाह की इबादत गुज़ारी मे मशगूल रहते थे। चौथे इमाम का ताबूत भी निकाला गया। 25 मोहर्रम 95 हिजरी को तत्कालीन शासक वलीद इब्ने अब्दुल मलिक द्वारा रचे गये षड़यंत्र के तहत इमाम ज़ैनुल आब्दीन को 57 साल की उम्र मे हेशाम बिन अब्दुल मालिक ने इमाम को ज़हर देकर शहीद कर दिया गया। इमाम ज़ैनुल आब्दीन अलैहिस्सलाम की शहादत दिवस पर पूरे जिले मे मजलिस, मातम व जुलूस निकाला गया। इसी कड़ी मे 25 मोहर्रम को ज़ैनुल एबा (गुड्डू) की जानिब से इमाम की शहादत पर मजलिस का आयोजन हुआ मजलिस को लखनऊ से आये मौलाना सैय्यद आदिल अब्बास मिर्ज़ापुर ने सम्बोधित किया। उन्होंने ने अपने बयान में बताया कि आप कभी भी मजलिस को नमाज़ से टकराव न करे। क्योंकि जिस इमाम ने खून के आँसू रोते हुए नमाज़ क़ज़ा नही की तो उनके चाहने वाले अज़ादार इमाम के नाम पर खून बहा कर भी नमाज़ कैसे छोड़ सकते है। इस लिए आप लोग नमाज़ के साथ इमाम का गम मनाएं। ताकि हमारा इमाम हम से खुश हो और हमको दुआ दें ताकि हम रोज़े क़यामत । मजलिसो मातम , नमाज़, रोज़ा, हज व ज़ियारत इन्ही आमाल के ज़रिए बख्श दिए जाएं। अंत मे मौलाना ने इमाम की शहादत पर खून आलूदा मसाएब पढ़ना शुरू किया कि हमारे इमाम को शाम मे इतना सताया गया कि इमाम को खून के आँसू रोने पड़े, जिससे मौजूद मोमनीन की आंखे नम हो गई। बाद मजलिस अंजुमन गुंचा ए हुसैनी के साहेबे ब्याज़ दानिश रिज़वी ने पुरदर्द अंदाज़ मे नौहाख्वानी व सीना ज़नी की।

व्यापारियों ने लहराया शान से तिरंगा

By | अम्बेडकरनगर | No Comments

अम्बेडकरनगर : जश्न ए आजादी के 73 वां वर्षगांठ पर जनपद भर में स्वतंत्रता दिवस को बहुत ही हर्षोल्लास के समारोह पूर्वक जगह जगह पर बहुत ही धूमधाम से विद्यालयों सरकारी कार्यालयों पर धूमधाम से मनाया गया।
वहीं हजपुरा चौराहे पर व्यापार मंडल अध्यक्ष पहलाद वर्मा द्वारा ध्वजारोहण कर उन्होंने कुछ व्यापारियों की तरफ से कही स्वतंत्रता दिवस के दिन सन् 1947 के बाद में जिस दिन हमारा देश आजाद हुआ था। हम लोग व्यापारी संगठन व्यापारियों के धर्म के अनुसार राष्ट्र भक्ति और देश भक्ति के लिए अपने से तिरंगा ध्वज फहरा करके 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस की खुशियां मनाते हैं। और अपने देश और राष्ट्र के लिए व्यापारियों का जो समर्पण है उसका प्रदर्शन करते हुए यह संकल्प लेते हैं की 15 अगस्त हम हमेशा मनाते रहेंगे और हिंदुस्तान की एकता अखंडता के लिए और यहां के जो देशवासी हैं उनकी सुरक्षा के लिए व्यापारियों का जो धर्म है। उसका निर्वहन करेंगे इसके लिए चाहे व्यापारियों को अपने प्राण भी देने पड़े। लेकिन देशवासियों के हित के लिए कभी समझौता नहीं करेंगे। और शान से तिरंगा लहराएंगे उक्त बात व्यापार मंडल अध्यक्ष प्रहलाद वर्मा ने हजपुरा चौराहे पर ध्वजारोहण करने के बाद कहीं।
इस मौके पर अतुल शर्मा, कबीन्द्र नाथ,
नाथ राम आसरे राजभर
, पुजारी लाल साहू, सुभाष अग्रहरी, सतगुरु मद्धेशिया, रवि सोनी, इस नारायण साहू,और तमाम व्यापारी मौजूद रहे।

जो अल्लाह की इताअत करे वही हमारा दोस्त है : मौलाना नूरुल हसन

By | अम्बेडकरनगर | No Comments

ज़ाहिद नक़वी
अम्बेडकरनगर : सफीरे हुसैनी का मातम के उनवान से 8 अगस्त से शुरू हुई मजलिसे अज़ा का दूसरा दिन शुक्रवार को तंज़ीमे रज़ाये इलाही के बैनर तले मजलिसों का दौर जारी है। मौलाना सैय्यद नूरुल हसन रिज़वी इमामे जुमा मछ्ली गांव के तत्वधान मे होने वाली मजलिस को हिन्दुस्तान के नाम चीन उलमा ए केराम सम्बोधित कर रहे हैं। शुक्रवार के दिन की पहली मजलिस को मौलाना सैय्यद नूरुल रिज़वी ने सम्बोधित किया। मौलाना ने 5वे इमाम की शहादत के ऊपर मजलिस को खेताब करते हुए फरमाया की इमाम मोहम्मद बाक़िर अ०स० ने फरमाया है कि जो अल्लाह की इताअत करे वही हमारा सच्चा दोस्त है। मौलाना ने 5वे इमाम की हयाते ज़िन्दगी के ऊपर क़ुरआन व हदीस के साये मे पूरी मजलिस को खिताब किया। अंत मे मौलाना ने इमाम मोहम्मद बाक़िर अ०स० की शहादत पर मसाएब पढ़ना शुरू किया तो वहां पर मौजूद मोमनीन की आंखे नम हो गईं। इसी दौर की दूसरी मजलिस को लखनऊ से आये मौलाना सैय्यद हैदर अब्बास रिज़वी ने सम्बोधित किया। मौलाना ने दूसरी मजलिस मे फ़रमाया की इस्लाम भाई चारा अमन व शांति का पैग़ाम देता है। हम को चाहिए कि हम अपनी ज़िन्दगी मोहम्मद व आले मोहम्मद अ०स० के बताए हुए रास्ते पर चल कर बसर करें। ताकि रोज़े क़यामत हमे अपने इमाम के सामने रुसवा न होना पड़े। बल्कि इमाम ख़ुद कहें की कि ये हमारा सच्चा मोहीब है और हमारी बख्शिश हो सके। अंत मे मौलाना ने 1400 वर्ष पूर्व मे हुई नवास -ए- रसूल हज़रत इमाम हुसैन अ०स० के ऊपर पहाड़ जैसी मोसिबतों का ज़िक्र किया तो वहां पर मौजूद मोमनीन की आँखों से अश्क़ जारी हो गया।

अम्बेडकरनगर : वाह रे बिजली विभाग! ग़रीब उपभोक्ता को भेजा डेढ़ करोड़ का बिजली बिल

By | अम्बेडकरनगर | No Comments

डेढ़ वर्ष पहले लिया था बिजली कनेक्शन

ज़ाहिद नक़वी
अम्बेडकरनगर : बिजली विभाग के कारनामे भी अजब गजब हैं। रफीगंज विद्युत् उपकेन्द्र अंतर्गत दौलताबाद निवासी एक उपभोक्ता को विभाग ने डेढ़ करोड़ बिजली बिल भेज दिया। जो क्षेत्र में चर्चा का बिषय तो बना है। साथ ही बिजली विभाग की लापरवाही को ले कर लोगो में रोष व्याप्त है। दौलता बाद निवासी गरीब जंग बहादुर ने आज से लगभग डेढ़ वर्ष पहले बिजली का कनेक्शन लिया था जिस की अभी तक बिल नहीं आयी थी। दो दिन पूर्व विभाग के कर्मचारी मीटर से डोर तो डोर बिल प्रिंट कर के उपभोक्ताओं को दे रहे थे। इसी बीच जब उपभोक्ता जंग बहादुर को बिजली के बिल की प्रिंट मिली तो वह देख के दंग रह गया क्यों की घरेलू इस्तेमाल हो रही बिजली का बिल 1 करोड़ 40 लाख 99 हज़ार 345 रुपया था। जिस की इकाई दहाई तक जंग बहादुर नही लगा पाया बाद में कर्मचारियों ने ही सही रकम उसे पढ़ के सुनाई । गरीब जंग बहादुर परेशान हो गया और वह दौड़ते भागते हुए विद्युत् उपकेन्द्र रफीगंज पहुंचा तो कर्मचारियों ने उसे संतुष्ट किया कि बिल में सुधार हो जायेगा। मगर आमलोगों में करोड़ रुपये से अधिक बिल भेजे जाने की चर्चा और बिजली विभाग की लापरवाही से खूब किरकिरी हो रही है।

इमाम हुसैन का मकसद दीने-ए-इस्लाम की हिफाज़त, और लोगों की हिदायत करना : मौलाना बेलाल काज़मी

By | अम्बेडकरनगर | No Comments

ज़ाहिद नक़वी
अम्बेडकरनगर : जलालपुर तहसील क्षेत्र के कज़पुरा गांव में दिलबर अब्बास की माँ मरहूमा बिब्बन बीबी की मजलिसे बरसी का आयोजन रविवार की रात्रि इमामबारगाह कज़पुरा में हुआ। मजलिस कार्यक्रम का आगाज़ पेशख़्वानी से मौलाना महफूज़ सुल्तानपुरी व शिज़ख़्वानी से मौलाना क़ासिम मेंहदी व उनके हमनवा ने किया। वही मजलिस को मौलाना बेलाल काज़मी लखनऊ ने संबोधित किया।वही पहली मजलिस को संबोधित करते हुए मौलाना ने कहा कि इमाम हुसैन का मकसद दीने-ए-इस्लाम की हिफाज़त, इंसानियत की बका और लोगों की हिदायत करना था। मौलान ने कहा कि रसूल ने कहा है कि तुम्हारे बीच अल्लाह की किताब कुरान व दूसरे अहलेबैत को छोड़ कर जा रहा हूं। जब तक तुम इन दोनों से जुड़े रहोगे कभी गुमराह नही हो सकते इसलिए मजलिस से पहले हम कुरान की आयतें पढ़ते है और फिर ज़िक्र ए अहलेबैत करते हैं। कर्बला के शहीदों की शहादत को बयान किया। जिसे सुनकर लोगों की आंखों से आंसु जारी हो गये।

मौलाना मिर्ज़ा मोहम्मद अशफाक की मौत से क़ौम को बहुत बड़ा नुकसान पहुंचा : मौलाना नूरुल हसन

By | अम्बेडकरनगर | No Comments

ज़ाहिद नक़वी
अम्बेडकरनगर – जलालपुर तहसील क्षेत्र के मछली गांव मे शनिवार को मौलाना सैय्यद नूरुल हसन रिज़वी की क़यादत मे ख़तीबुल इरफान मौलाना मिर्ज़ा मोहम्मद अशफाक़ साहब की अचानक दिल का दौरा पड़ने से हुई मौत पर एक ताज़ियती जलसे का आयोजन जामा मस्जिद मछ्ली गांव मे किया गया। जलसे को सम्बोधित करते हुए मौलाना सैय्यद नूरुल हसन रिज़वी ने इज़हारे अफसोस करते हुए बताया कि ख़तीबुल इरफान मौलाना मिर्ज़ा मोहम्मद अशफाक़ साहब के इन्तेक़ाल से पूरी क़ौम को बहुत बड़ा नुकसान पहुंचा है जिसकी भरपाई करना ना मुमकिन है। मौलाना मौसूफ़ एक नेक व बा अमल इंसान थे। जो पूरी ज़िंदगी मदहे अहलेबैत , फज़ाएले अहलेबैत, मसाएबे अहलेबैत मे जनाबे फातेमा ज़हरा के लाल पर रोते और रोलाते रहे। उनके इन्तेक़ाल से पूरे भारत मे एक सोक की लहर दौड़ पड़ी।