Breaking News

उत्तर प्रेदश:- योगी जी की विकास की राहें अपनी बदहाली पर आंसू बहा रही है !
उत्तर प्रेदश:- रंगरलियां मना रहे दो जोड़ो की हुई जमकर पिटाई
देश:- प्रधानमंत्री ने कहा कि सामान्य वर्ग के गरीबों के लिए 10 प्रतिशत आरक्षण विधेयक एक ऐतिहासिक कदम है जो गरीबों के लिए सरकार की प्रतिबद्धता को दर्शाता है
देश:- स्वच्छ भारत मिशन खुले में शौच से मुक्त भारत के लक्ष्य प्राप्ति की ओर
देश:- मेघालय में पहली ‘स्वदेश दर्शन’ परियोजना का उद्घाटन
देश:- रेल संरक्षा में भारत-जापान सहयोग के लिए रेलमंत्रालय ने चर्चा रिकॉर्ड पर हस्‍ताक्षर किये |
Category

देश

राज्यों की सीमाएं सील कर प्रवासी मजदूरों की आवाजाही पूरी तरह रोकी जाए : केंद्र सरकार

By | देश, राज्य | No Comments

राज्यों की सीमाएं सील कर प्रवासी मजदूरों की आवाजाही पूरी तरह रोकी जाए : केंद्र सरकार

नई दिल्ली केंद्र सरकार ने निर्देश दिया है कि जो लोग भी लॉकडाउन का उल्लंघन करते हुए एक जगह से दूसरी जगह गए हैं, उन्हें कम से कम 14 दिन के लिए आइसोलेट किया जाएगा यह निर्देश सभी राज्य सरकारों को जारी कर दिया गया है. आपूर्ति भी जारी रहे इस पर भी कोशिश जारी है और जरूरी कदम भी उठाए जा रहे हैं लेकिन इस बीच देखा गया है कि प्रवासी मजदूर बड़ी संख्या में एक जगह से दूसरी जगह गए हैं सभी राज्यों सरकारों को सीमाएं सील रखने के लिए कहा गया है. सभी राज्यों को यह भी कहा गया है कि हाइवे पर भी किसी तरह का आवगमन नहीं होना चाहिए
जरूरत मंदों को खाना और आश्रय की पर्याप्त व्यवस्था की जाए इसके साथ ही नोटिस में यह भी साफ तौर पर कहा गया कि जो लोग लॉकडाउन का उल्लंघन कर एक जगह से दूसरी जगह गए हैं उनको कम से कम 14 दिन के लिए आइसोलेशन में रख निगरानी भी बनाए रखी जाए इसके साथ ही सभी राज्यों को इस बात का भी निर्देश दिया गया है कि मजदूरों को उनकी मेहनत का पैसा समय से मिलता रहे और इसमें कोई कटौती नहीं होने पाए किसी भी मजदूर इस समय घर का किराया न मांगा जाए जो लोग छात्रों और मजदूरों से कमरा या घर खाली करने के लिए कहते हैं उनके खिलाफ कार्रवाई हो
गौरतलब है कि 21 दिनों के लॉकडाउन का ऐलान होते ही बड़ी संख्या में कामगार मजदूर अपने घरों की ओर पलायन करने लगे हैं हालांकि सरकार की ओर से बार-बार अपील की जा रही है कि उनके लिए पूरा इंतजाम किया जाएगा लेकिन मजदूरों का कहना है कि जो भी समस्या होगी परिवार के साथ झेला जाएगा. हालात ये हो गए हैं कि जयपुर दिल्ली एनसीआर से बड़ी संख्या में कामगार और मजदूर पैदल ही अपनों घरों की ओर जा रहे हैं

प्रशासन और आम जन दोनों की असंवेदनशीलता, कहीं भारी ना पड़े देशवासियों को

By | उत्तर प्रेदश, देश | No Comments

कोविट-19 मात्र एक दिन की जागरूकता के बाद क्या ख़तरा टल गया
प्रशासन और आम जन दोनों की असंवेदनशीलता, कहीं भारी ना पड़े देशवासियों को

ए एस ख़ान
लखनऊ विश्वव्यापी महामारी कोविट-19-कोरोना वायरस को भारत में फैलने से रोकने हेतु जहां केन्द्र और प्रांतीय सरकारों ने दिन रात एक किए हुए हैं, वहीं आमजन, और प्रशासन मात्र इसे सांकेतिक दिशानिर्देश मानकर आचरण कर रहा है, जिसके कारण देश एक भीषण त्रासदी की ओर बढ़ता दिख रहा है ।
कोरोना के कहर की तस्वीरें और ख़बरें विदेशों से लगातार समाचार पत्रों एवं सोषल मीडिया के माध्यम से सामने आ रही है किंतु भारतीयों ने शायद इसे ठीक से समझना नहीं चाहा, या यूं समझो की वे इसे मात्र कुछ पलों के संकट के रूप में लेरहे है ।
वर्ना प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्रियों, सहित अनेकों जागरुक लोगों की अपीलों, निवेदनों, के बाद भी आम आदमी जागरूकता का परिचय नहीं दे रहा है
देश में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के आह्वान पर रवीवार 22 मार्च को जनता कर्फ़यू के दौरान दिन भर पूरे देश में अभूतपूर्व समर्थन मिला तथा देशवासी घरों में कैद रहे, यह देखकर एक सुखद अहसास हुआ कि जनता जागरूक है तथा कोरोना को हराया जा सकता है ।
किंतु शाम होते ही यह भ्रम टूट गया ।
देश में इस आपदा की घड़ी में जान जोखिम में डालकर फ्रंट लाइन पर कार्य कर रहे डाक्टरों, प्रशासनिक अधिकारियों, स्वास्थ सेवाओं से जुड़े तथा प्रशासनिक कर्मचारियों, एवं एसी नाज़ुक घड़ी में भी समाचारों का संकलन करने हेतु निकलने वाले मीडिया कर्मियों के उत्साहवर्धन हेतु थाली तथा ताली बजाने के निवेदन को समाज ने ऐसे मनाया मानो कोरोना का विनाश कर जश्न मना रहे हों ।
जगहां जगहां जुलूसों के रूप में भीड़ के साथ थाली,घंटा, बजाते लोगों ने तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल कर स्वंय को यौद्धा साबित करने के प्रयास किए ।
ऐसा लगा कि जैसे ये प्रधानमंत्री की अपील का मज़ाक उड़ाकर कोरोना को दावत दे रहे हैं ।
यही नहीं दूसरे दिन सोमवार को भी आमजन ने घोर लापरवाहियां जारी रखीं, लोग सड़कों पर भी निकले, गलियों में मजमा भी लगा दुकानें भी खुलीं तथा भीड़भाड़ भी रही ।
इस दौरान प्रशासन केवल व्यसत सड़कों पर एवं चौराहों पर ही सख़्ती करता दिखा जहां से अधिक तर मीडिया कर्मी, एवं आवश्यक वस्तुओं को लेजाने वालों के वाहन ही निकल रहे थे ।
कोरोना की विभीषिका की जितनी अनदेखी आमजन कर रहा है, उतनी ही प्रशासन विषेश कर पुलिस प्रशासन भी ।
समाचारों का संकलन करने निकले पत्रकारों से पुलिस का व्यवहार अनूकूल नहीं था ।
दूसरी ओर स्वासथ सेवाओं से जुड़े अधिकारी,कर्मचारी, एवं आला प्रशासनिक अधिकारी पूरी तरह मुस्तैद सजगता तत्परता, से अपने कर्त्तव्यों का निर्वाह करते दिखे, जिसमें लखनऊ जिलाधिकारी, उप जिलाधिकारी, कमिश्नर, एवं सहयोगीयों की कार्यशैली सराहनीय रही ।
वहीं थाना चौकी स्तर के पुलिस प्रशासन की कार्यप्रणाली कहीं से संतोषजनक नहीं दिखी ।
आमजन एवं प्रशासन के इस उदासीन रवैए, एवं हठधर्मिता के चलते कैसे कोरोना काबू में आयेगा, ये चिंता का विषय है ।
क्या ही अच्छा हो की संवेदनशील परिस्थितियों में गठित की जाने वाली शांती कमेटियों की तरह मोहल्ला वार जागरूकता कमेटियों के माध्यम से गली गली जागरूकता अभियान चलाया जाता, तथा थाना चौकी स्तर पर निरंतर गश्त का विषेश कर गलियों में निरंतर चौकसी की व्यवस्था सुनिश्चित की जाती ।
कोरोना का रोना मात्र एक दिन का नहीं था जिसे ताली,थाली,घंटा, बजाकर मिटा दिया गया ।
यह मौत बनकर समूचे विश्व पर मंडरा रहा है तथा यह सीमाएं, धर्म,जाती, वर्ग, नहीं देखता बल्की पूरी मानवता को ग्रास बनाना चाहता है, और भारत भी इसकी चपेट में है ।
कोरोना का मात्र जागरूकता से हराया जा सकता है और प्रशासन के निर्देश वैज्ञानिक आधार पर हैं इन्हें मानकर ही इस आपदा से मुक्त हो सकते हैं ।
अन्यथा त्रासदी निश्चित है ।

कोरोना वायरस को लेकर सभी देशवासियों से एस- के – के- न्यूज की ओर से अपील ।

By | उत्तर प्रेदश, देश | No Comments

देवबंद -सहारनपुर
कोरोना वायरस को लेकर सभी देशवासियों से एस- के – के- न्यूज की ओर से अपील ।
कोरोना वायरस से बचाव को लेकर जागरूकता की मुहिम शुरू की गई हैं । कोरोना वायरस से बचाओ के लिए सामाजिक दूरी ही सबसे जरूरी है। आप सभी देशवासियों से निवेदन करते हैं। कि जितना हो सकें अपने घर के अंदर ही रहे । हाथ मिलाने से परहेज करें । दिन में कई बार सैनिटाइजर या साबुन से हाथों को धोएं । लाॅकडाउन में आप सभी से सहयोग की अपील करते हैं। आप सभी घर के अंदर ही रहे। घर से बाहर जरूर काम के लिए ही निकले जितना हो सकता हो उतना बचे कही भी ज्यादा लोगो मे न तो आप हो और दूसरों को भी समझाओ बार बार साबुन या एंटीसेप्टिक लिकविड से हाथ धोते रहे कोरोना वायरस के संक्रमण के खिलाफ जंग में हर व्यक्ति की सहभागिता बेहद अहम होगी ।हम आप सभी से अपील करते हैं ।लाॅकडाउन में अपना सहयोग करें। और अपने घरो में ही रहें।
मनोज त्यागी

जदयू के लेटर पैड पर किया कंप्लेंन तो पटना जिला अधिकारी के द्वारा कार्यवाही शून्य।

By | उत्तर प्रेदश, देश, बिहार, राज्य | No Comments

जदयू के लेटर पैड पर किया कंप्लेंन तो पटना जिला अधिकारी के द्वारा कार्यवाही शून्य।


पटना सुशासन की सरकार में सब कुछ चलता है सही को गलत और गलत को सही यह आज के मायने सुशासन की सरकार में हो रही है। बताते चलें कि 9 दिसंबर 2019 को स्पीड पोस्ट के माध्यम से एक लिखित आवेदन पटना महानगर जनता दल यूनाइटेड के श्रमिक प्रकोष्ठ के लेटर हेड पर पटना जिला अधिकारी मिशन निर्देशक बिहार महादलित विकास मिशन पटना, जिला कल्याण पदाधिकारी को जांच उपरांत कार्रवाई करने की आवेदन भेजी गई थी। जिसकी अभी तक वरीय पदाधिकारी के द्वारा कार्यवाही शून्य और कार्रवाई पटना नगर निगम नूतन राजधानी वार्ड संख्या 11 के विकास मित्र नीतू कुमारी के कार्य में कोताही बरतने एवं माननीय मुख्यमंत्री के द्वारा चलाए जा रहे सात निश्चय योजना के अंतर्गत शौचालय निर्माण में अवैध रूप से रकम की उगाही करना जैसे बहुत से मामलों को लिखित आवेदन के द्वारा द्वारा श्रीमान जिलाधिकारी महोदय, मिशन निर्देशक, जिला कल्याण को लिखित आवेदन के द्वारा स्पीड पोस्ट के माध्यम से सूचना की गई थी। पर उस जदयू के लेटर पैड पर की गई कंप्लेन को पटना जिले के जिलाधिकारी अभी तक कार्यवाई करने से वंचित नजर आ रहे हैं। ऐसा प्रतीत होता है की सत्ता पक्ष में चल रही सरकार की लेटर पैड की गरिमा को प्रशासनिक पदाधिकारी नजर अंदाज करते हुए जदयू के लेटर पैड को डस्टबिन में फेंक दिया जाता होगा। इस वजह से अभी तक किसी भी पदाधिकारी के द्वारा वार्ड संख्या 11 के विकास मित्र कार्य में कोताही बरतने एवं मुख्यमंत्री के द्वारा चलाए गए सात निश्चय योजना के अंतर्गत शौचालय निर्माण जैसे कार्यों में अनियमितता पर कार्रवाई नहीं की गई हैं।और विकास मित्र का मनोबल दिनप्रतिदिन बढ़ता जा रहा है इतना ही नहीं अगर किसी वार्ड की जनता को विकास मित्र से काम पड़ता है वाह पहले मिलने से इंकार करती है एवं अगर मिल जाती है तो सरकार की बताई गई योजना को दिलाने के एवज में पहले राशि की डिमांड की जाती है एवं नहीं देने पर उन्हें अभद्र शब्द का प्रयोग कर कहा जाता है जहां जाना है वहां जा सकते हैं मुझे किसी भी पदाधिकारी से कोई डर नहीं है मैं खुद अनुसूचित जाति से आता हूं और महिला भी हूं इस कारण से मुझे किसी भी पदाधिकारी से कोई भय नहीं है। यह सभी शब्द सुनकर वार्ड की जनता सरकार के द्वारा दी गई योजनाओं का लाभ लेने से वंचित रह जाते हैं।

*हावड़ा : दो दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय कराटे चैंपियनशिप का हुआ आयोजन*….

By | देश, राज्य | No Comments

*हावड़ा : दो दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय कराटे चैंपियनशिप का हुआ आयोजन*….

रिपोर्ट: नसीम रब्बानी के साथ मो.अनवार आज़ाद

पशिम बंगाल कोलकाता: नेताजी सुभाष चन्द्र बोस के 123वें जयंती के अवसर पर हावड़ा के दासनगर स्थित अल्मोहन दास इंडोर स्टेडियम में ग्लोबल शोटोकान कराटे – डू एसोसिएशन ऑफ इंडिया ने दो दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय कराटे चैंपियनशिप का आयोजन किया गया। जिसका उद्घाटन विभास हाजरा (पूर्व नगर निगम परिषद् सदस्य) के द्वारा किया गया।

इस प्रतियोगिता में नेपाल, भूटान, बांग्लादेश एवं श्रीलंका के लगभग 300 खिलाड़ियों ने भाग लिया।

इस चैंपियनशिप के चीफ ऑर्गनाइजर शिहान तारक नाथ सरदार ने सभी अतिथियों एवं राष्ट्रीय दलों को बधाई दी।
इस प्रतियोगिता में प्रथम स्थान पर भारत रहा, दूसरे स्थान पर नेपाल एवं तीसरे स्थान पर बांग्लादेश रहा।

राष्ट्रीय अल्पसंख्यक मुस्लिम कल्याण संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष जकीउर रहमान खान के नेतृत्व में डीएम को CAA & NRC के विरोध मे सौंपा ज्ञापन…….

By | देश, राज्य | No Comments

राष्ट्रीय अल्पसंख्यक मुस्लिम कल्याण संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष जकीउर रहमान खान के नेतृत्व में डीएम को CAA & NRC के विरोध मे सौंपा ज्ञापन…….

रिपोर्ट: सनोवर खान / नसीम रब्बानी……

मध्यप्रदेश(ग्वालियर) CAA&NRC के विरोध मे आज महामहिम राष्ट्रपति महोदय के नाम से कलेक्टर साहव ग्वालियर को ज्ञापन देकर माँग की है कि CAA&NRC संविधान के आर्टीकल 14 के खिलाफ होने के कारण वापिस लिया जाये इससे मुसलमानों के मोलिक अधिकारो का हनन होता है । ज्ञापन राष्ट्रीय अल्पसंख्यक मुस्लिम कल्याण संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष जकी उर रहमान खाँन के नेतृत्व मे दिया गया । ज्ञापन देते समय राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शरीफ उद्दीन नियाजी प्रदेश अध्यक्ष डा. राशिद अली हैदरी . संगठन प्रभारी मोहम्मद इदरीस खाँन. दिलशाद खाँन . इमरान खाँन हबीब खाँन .अल्ताफ कादरी . इमरान मुल्लाजी.. अव्दुल नईम खाँन सोहेल खान. शायर खाँन .सफीक शाह. सफीक मोलाना . आमीन खाँन समीर खाँन . करीम उद्दीन .लियाकत खाँन. आविद खाँन .वसीम नियाजी .असरफ चौधरी.वासिद खाँन .शरीफ शाह .सलमान खाँन ..हाजी निसार मोहम्मद मोहम्मद.. हाफिज इमरान खाँन. इकवाल खाँन एवं अन्य लोगो मौजूद थे ।

*SBI ने एक खाते के बना दिये दो मालिक, एक पैसे डालता रहा, दूसरा मोदी जी भेज रहे समझ निकालता रहा*

By | देश, राज्य | No Comments

*SBI ने एक खाते के बना दिये दो मालिक, एक पैसे डालता रहा, दूसरा मोदी जी भेज रहे समझ निकालता रहा*

सनोवर खान के साथ नसीम रब्बानी की रिपोर्ट ।

भोपाल: मध्यप्रदेश के भिंड में एक शख्स प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चुनावी भाषण को कुछ ज्यादा ही गंभीरता से लेता रहा, जिससे अब वो परेशानी में है. मामला भिंड ज़िले के आलमपुर में स्थित एसबीआई बैंक का है. यहां बैंक की गलती से एक शख्स की गाढ़ी कमाई कोई दूसरा उसी खाते से कोई और निकालता रहा ये समझकर कि पैसा मोदी जी भेज रहे हैं. दरअसल हुआ कुछ यूं कि यहां रूरई गांव के रहने वाले हुकुम सिंह और रोनी गांव के रहने वाले हुकुम सिंह, दोनों ने आलमपुर ब्रांच में खाता खुलवाया. बैंकर बाबू ने क्या किया कि पासबुक में सिर्फ फ़ोटो अलग-अलग लगवाई बाकी दोनों का पता, और खाता नंबर एक ही दे दिया. यानी खाता एक और मालिक दो.
खाता खुलवाने के बाद रूरई का हुकुम सिंह कुशवाहा रोज़ी कमाने हरियाणा चला गया. यहां पैसे बचाकर वो खाते में जमा करवाता रहा उधर रोनी गांव का हुकुम सिंह बैंक पहुंचकर पैसे निकालता रहा. वो भी एक दो नहीं पूरे 6 महीने तक. 6 महीने में कमाने वाले हुकुम सिंह के खाते से खर्च करने वाले हुकुम सिंह ने 89 हज़ार रुपये निकाल लिए.

मामला का खुलासा तब हुआ जब रूरई गांव वाले हुकुम सिंह को ज़मीन खरीदनी थी, जिसके लिए वो 16 अक्टूबर को रुपए निकालने बैंक पहुंचे. यहां उन्होंने देखा कि उनके खाते में सिर्फ 35 हजार 400 रुपए बचे, जबकि उनके मुताबिक वे अब तक 1 लाख 40 हजार रुपये जमा कर चुके थे. इसके बाद उन्होंने बैंक कर्मियों से इसकी शिकायत की लेकिन उनका आरोप है कि इस बात को बैंक के अधिकारियों ने दबाने की कोशिश की
बैंक मैनेजर राजेश सोनकर ने उनसे कहा कि पैसा खाताधारक को मिल जाएगा. लेकिन पता लगा पैसे तो रोनी निवासी हुकुम सिंह के पास हैं जब उनसे सवाल पूछा गया तो उन्होंने साफ कहा, ”मेरा खाता था. उसमें पैसा आया. मैं सोच रहा था मोदीजी पैसा दे रहे हैं तो मैंने निकाल लिया. हमारे पास पैसा नहीं था, हमारी मजबूरी थी. हमने घर में काम करवाया है और इसलिये पैसा हमें निकालना पड़ा.” रोनी निवासी हुकुम सिंह ने इस लापरवाही के लिए बैंक वालों को जिम्मेदार बताया है.

महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने की सिफारिश, मोदी कैबिनेट ने दी मंजूरी

By | देश, बिहार, राज्य | No Comments

महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने की सिफारिश, मोदी कैबिनेट ने दी मंजूरी

महाराष्ट्र का सियासी संघर्ष अब सियासी संकट की तरफ बढ़ता दिखाई दे रहा है. सूत्रों के हवाले से खबर है कि मोदी कैबिनेट ने राष्ट्रपति को महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने की अनुशंसा कर दी है. इसी बीच शिवसेना भी सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई है.

सुप्रीम कोर्ट में शिवसेना ने अपनी याचिका में मांग की है कि राज्यपाल के उस आदेश को रद्द किया जाए जिसमें उन्होंने शिवसेना को समर्थन पत्र जमा करने के लिए तीन दिनों का समय देने से इनकार किया था. शिवसेना ने मांग की है कि सुप्रीम कोर्ट गर्वनर को आदेश दे कि शिवसेना को समर्थन जुटाने के किये पर्याप्त समय दिया जाए. शिवसेना ने अपनी याचिका में ये भी कहा कि राज्यपाल के उस आदेश को रद्द किया जाए जिसमें उन्होंने सरकार बनाने के लिए शिवसेना के क्लेम को खारिज कर दिया था. शिवसेना की ओर से वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल और देवदत्त कामत सुप्रीम कोर्ट में पैरवी कर रहे हैं.

ICU में लता मंगेशकर, हेमा मालिनी-शबाना आजमी ने की सलामती की दुआएं

By | देश, बिहार, राज्य | No Comments

ICU में लता मंगेशकर, हेमा मालिनी-शबाना आजमी ने की सलामती की दुआएं

खबर है कि बॉलीवुड सिंगर लता मंगेशकर की तबीयत खराब होने की वजह से उन्‍हें अस्‍पताल में भर्ती कराया गया है. ताजा जानकारी के मुताबिक लता की कंडीशन पहले से बेहतर है. हेमा मालिनी ने कुछ घंटों पहले ट्वीट कर लता के कंडीशन के बारे में बताया है. हेमा मालिनी ने ट्वीट पर लिखा, ‘लता जी के लिए प्रार्थना करें जो कि अभी हाॅस्‍प‍िटल में एडमिट हैं और कुछ रिपोर्ट्स के अनुसार उनकी हालत बहुत क्रिट‍िकल है. भगवान उन्‍हें इस हालत से निकलने में मदद करें और वे दोबारा हमारे बीच वापस आ जाएं. पूरा देश भारत रत्‍न और भारत की कोकिला लता जी के लिए प्रार्थना कर रहा है.

एक्‍ट्रेस शबाना आजमी ने भी ट्वीट कर लता के जल्‍द अच्‍छे होने की दुआ की है. उन्‍होंने लिखा, ‘आदाब और हजारों दुआएं कि आप फौरन अच्‍छी होकर घर वापस आ जाएं’.

बता दें कि लता मंगेशकर को सोमवार यान‍ि 11 नवंबर को सांस संबंधित शिकायत के बाद मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में भर्ती कराया गया था. अस्‍पताल में भर्ती होने की खबर सुनते ही लोग सोशल मीडिया पर उनकी सलामती की दुआ करने लगे.
एक्ट्रेस पूनम ढ‍िल्लन ने ट्वीट करके उनके सेहतमंद होने की दुआ की.

गुरुनानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व के अवसर पर मुख्यमंत्री ने प्रदेश एवं देशवासियों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनायें दीं

By | देश, बिहार, राज्य | No Comments

गुरुनानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व के अवसर पर मुख्यमंत्री ने प्रदेश एवं देशवासियों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनायें दीं

PATNA

गुरुनानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व के अवसर पर मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार ने प्रदेश एवं देशवासियों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनायें दीं। मुख्यमंत्री ने कहा कि गुरुनानक देव जी सिख धर्म के संस्थापक और सिखों के पहले गुरु थे। गुरुनानक जी के व्यक्तित्व में दार्शनिक, योगी, गृहस्थ, धर्म संस्थापक, समाज सुधारक, कवि, देशभक्त एवं विश्वबंधु के गुण मिलते हैं। उन्होंने शांति, दया एवं मानवता का पवित्र संदेश देने के लिये चारों दिशाओं में बड़े पैमाने पर यात्राएं की थीं जिन्हें ‘उदासी’ नाम से जाना जाता है। गुरुनानक देव जी महाराज के 550वें प्रकाश पर्व को राजगीर मंे 27 से 29 दिसंबर 2019 तक मनाया जायेगा। राजगीर में जहां गुरूनानक देव जी ने जमीन पर अपना चरण छुआकर शीतल जल का फुहारा प्रकट कर दिया था, वह स्थान शीतल कुंड के नाम से विख्यात है। राजगीर में उसी स्थान पर गुरूद्वारा शीतल कुंड का निर्माण कराया जा रहा है जिसका 11 जनवरी 2019 को शिलान्यास करने का सौभाग्य मुझे प्राप्त हुआ।
मुख्यमंत्री ने कहा कि गुरूनानक देव जी के समग्र एवं समरस समाज बनाने के सपने को पूरा करने के लिये हम सभी को मिलकर काम करना चाहिए। गुरूनानक देव जी ने ‘इक ओंकार’ का नारा दिया था यानी ईश्वर एक है। गुरूनानक देव जी कहा करते थे कि किसी भी तरह के लोभ को त्याग कर, अपने हाथों से मेहनत कर और न्यायोचित तरीकों से धन का अर्जन करना चाहिये। कभी भी किसी का हक नहीं छीनना चाहिये बल्कि मेहनत और ईमानदारी की कमाई में से जरूरतमंदों की भी मदद करनी चाहिये। धन को जेब तक ही सीमित रहना चाहिये, उसे अपने हृदय में स्थान नहीं बनाने देना चाहिये अन्यथा नुकसान हमारा ही होता है। हम सभी को गुरूनानक देव जी के संदेशों को अपने जीवन में उतारने की कोशिश करनी चाहिये।