Breaking News

उत्तर प्रेदश:- योगी जी की विकास की राहें अपनी बदहाली पर आंसू बहा रही है !
उत्तर प्रेदश:- रंगरलियां मना रहे दो जोड़ो की हुई जमकर पिटाई
देश:- प्रधानमंत्री ने कहा कि सामान्य वर्ग के गरीबों के लिए 10 प्रतिशत आरक्षण विधेयक एक ऐतिहासिक कदम है जो गरीबों के लिए सरकार की प्रतिबद्धता को दर्शाता है
देश:- स्वच्छ भारत मिशन खुले में शौच से मुक्त भारत के लक्ष्य प्राप्ति की ओर
देश:- मेघालय में पहली ‘स्वदेश दर्शन’ परियोजना का उद्घाटन
देश:- रेल संरक्षा में भारत-जापान सहयोग के लिए रेलमंत्रालय ने चर्चा रिकॉर्ड पर हस्‍ताक्षर किये |
Category

बिहार

शनिवार से कोरोना पर जीत की होगी शुरुआत: मंगल पाण्डेय • प्रथम चरण के टीकाकरण के लिए 4.64 लाख लाभार्थी पंजीकृत • 300 सत्र स्थलों पर होगा टीकाकरण • प्रथम चरण के लिए राज्य को टीके के 5.69 लाख डोज हुए प्राप्त • प्रेस वार्ता के जरिए स्वास्थ्य मंत्री ने दी जानकारी

By | बिहार | No Comments

शनिवार से कोरोना पर जीत की होगी शुरुआत: मंगल पाण्डेय
प्रथम चरण के टीकाकरण के लिए 4.64 लाख लाभार्थी पंजीकृत
300 सत्र स्थलों पर होगा टीकाकरण
प्रथम चरण के लिए राज्य को टीके के 5.69 लाख डोज हुए प्राप्त
प्रेस वार्ता के जरिए स्वास्थ्य मंत्री ने दी जानकारी। रिपोर्ट नसीम रब्बानी

पटना/ 15, जनवरी: शनिवार यानी 16 जनवरी देश के साथ राज्य के लिए अति महत्वपूर्ण दिन साबित होने वाला है. विगत कई महीनों से कोरोना के खिलाफ़ चल रही लड़ाई एवं संघर्ष पर जीत की शुरुआत होने वाली है. शनिवार से राज्य के सभी जिलों में कोविड टीकाकरण कार्य शुरू किया जा रहा है. उक्त बातें शुक्रवार को बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पाण्डेय ने राज्य स्वास्थ्य समिति के सभागार में आयोजित प्रेस वार्ता के दौरान कही.
मंगल पाण्डेय ने मीडियाकर्मियों को संबोधित करते हुए कहा कोविड टीकाकरण के लिए पहले चरण में कोविन पोर्टल पर पंजीकृत 4,64,160 स्वास्थ्यकर्मियों का टीकाकरण किया जाना है. जिसमें 3,79,962 सरकारी स्वास्थ्यकर्मी एवं 84,198 प्राइवेट स्वास्थ्यकर्मी शामिल हैं. इसके लिए राज्य में कुल 300 सत्र स्थल बनाए गए हैं, जिसमें 259 सत्र स्थल सरकारी एवं 41 सत्र स्थल प्राइवेट के हैं. उन्होंने कहा कि कोविड टीकाकरण के प्रथम चरण के लिए राज्य के 10 क्षेत्रीय टीकाकरण स्टोरेज केन्द्रों को टीके भेज दिए गए हैं. इन 10 क्षेत्रीय टीकाकरण स्टोरेज केन्द्रों को टीका उपलब्ध कराया गया है. इन केन्द्रों में औरंगाबाद, भागलपुर, दरभंगा, पूर्वी चंपारण, मुजफ्फरपुर, नालंदा, पटना, पूर्णिया, सहरसा एवं सारण क्षेत्रीय टीकाकरण स्टोरेज केंद्र शामिल हैं. इनके माध्यम से सभी जिलों को जरुरी मात्रा में टीका जिलों को भेज दिया गया है.
प्रत्येक लाभार्थी को मोबाइल नंबर पर मिलेगी जानकारी:
मंगल पाण्डेय ने टीकाकरण प्रक्रिया के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि सभी पंजीकृत लाभार्थी के मोबाइल नंबर पर टीकाकरण सत्र के स्थान एवं समय की जानकारी मेसेज के माध्यम से दी जाएगी. उन्होंने बताया कि लाभार्थी के टीकाकृत होने के बाद स्वास्थ्य कर्मियों के द्वारा लाभार्थी की जानकारी कोविन पोर्टल पर दर्ज की जाएगी. उन्होंने बताया कि टीकाकरण के बाद लाभार्थी को स्वास्थ्यकर्मी की देखरेख में 30 मिनट तक रखा भी जाएगा. राज्य के सभी 38 जिलों में 678 कोल्ड चैन पॉइंट बनाये गये हैं. कोविड टीके की दो डोज सबको दी जानी है. टीकाकरण का दूसरा डोज 28 दिनों के अंदर ही दोहराया जायेगा. कोविशील्ड टीकाकृत लाभार्थी को कोविशील्ड व कोवैक्सीन टीकाकृत लाभार्थी को कोवैक्सीन का ही दूसरा डोज दिया जाना है.

राज्य को कुल 5,69,000 डोज हुए प्राप्त:
प्रेस वार्ता के दौरान प्रधान सचिव, स्वास्थ्य, अमृत प्रत्यय ने पॉवर पॉइंट प्रेजेंटेशन के जरिए टीकाकरण कार्यक्रम की कार्य योजना पर विस्तार से जानकारी दी. उन्होंने मीडिया कर्मी को संबोधित करते हुए कहा कि चिन्हित स्वास्थ्यकर्मियों के टीकाकरण के लिए राज्य को सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंडिया द्वारा निर्मित कोवीशील्ड की 54,900 वाईल एवं भारत इन्फोटेक द्वारा निर्मित कोवैक्सीन की 1000 वाईल प्राप्त हुयी है. कोवीशील्ड की एक वाईल से 10 डोज एवं कोवैक्सीन की एक वाईल से 20 डोज बनाए जाएंगे. इस लिहाज से राज्य को कोवीड टीकाकरण के पहले चरण के लिए कुल 5,69,000 डोज प्राप्त हो चुके हैं. शनिवार यानी 16 जनवरी को राज्य के दो टीकाकरण सत्र स्थल( इंदिरा गाँधी इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंसेज एवं पारस एचएमआरआई अपस्ताल) टीकाकरण शुरुआत की लाइव प्रसारण के साथ देश के अन्य राज्यों के साथ जुड़े रहेंगे.

जैव अपशिष्टों के प्रबंधन व निष्पादन की होगी व्यवस्था:
अमृत प्रत्यय ने बताया कि प्रत्येक टीकाकरण स्थलों पर जैव चिकित्सा अपशिष्टों के प्रबंधन के लिए कलर कोडेड बैग्स की व्यवस्था है. इन्हें सम्बंधित जैव चिकित्सा अपशिष्ट उपचार केंद्र के माध्यम से उठाव कर उनका निष्पादन किया जायेगा. इसके लिए राज्य में भागलपुर को 11 जिलों से, गया को 6 जिलों से, मुजफ्फरपुर को 15 जिलों से एवं पटना से 6 जिलों को जोड़ा गया है. जैव चिकित्सा अपशिष्टों के कलेक्शन एवं डिस्पोजल की जिम्मेदारी सिनर्जी वेस्ट मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड, मेडीकेयर इनवोरमेंट मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड एवं संगम मेडीसर्व प्राइवेट लिमिटेड को दी गयी है.

प्रथम चरण में इनका होगा टीकाकरण:
शनिवार से शुरू होने वाले टीकाकरण में सफाई कर्मी, एम्बुलेंस ड्राईवर, लेबोरेटरी टेकनीशियन, नर्स(एएनएम एवं जीएनएम), चिकित्सक एवं 50 वर्षों से अधिक उम्र वाले लोग, जिन्हें किसी तरह की कोई गंभीर स्वास्थ्य समस्या न हो, शामिल होंगे.
प्रत्येक सत्र स्थल पर 3 कक्ष बनाए गए हैं:
टीकाकरण के लिए प्रत्येक सत्र स्थल पर 3 कक्ष बनाये गये हैं. पहला कक्ष प्रतीक्षालय, दूसरा टीकाकरण कक्ष व तीसरा अवलोकन कक्ष निर्धारित किया गया है. अवलोकन कक्ष में टीकाकृत लाभार्थी की 30 मिनट तक करनी है. सत्र स्थलों पर एईएफआई किट, हैंड सेनिटाइजर, मास्क, बिजली व पानी की आपूर्ति, साफ सफाई, वेबकास्ट के लिए टेलीविजन व इंटरनेट कंनेक्शन सहित अन्य आवश्यक व्यवस्था सुनिश्चित की गयी है.
इस दौरान राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक मनोज कुमार, प्रशासी पदाधिकारी खालिद अरशद, राज्य प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ. एनके सिन्हा सहित अन्य राज्य स्तरीय पदाधिकारी उपस्थित थे.

परिवार नियोजन कार्यक्रम में सिविल सर्जन ने पुरुषों की भागीदारी पर दिया जोर

By | बिहार | No Comments

परिवार नियोजन कार्यक्रम में सिविल सर्जन ने पुरुषों की भागीदारी पर दिया जोर
प्रचार -प्रसार के लिए की जाएगी माइकिंग
– केयर इंडिया परिवार नियोजन कार्यक्रम को टीकाकरण सत्रों पर बैठक करेगी आयोजित                           रिपोर्ट नसीम रब्बानी
सीतामढ़ी, 15 जनवरी|
मिशन परिवार विकास अभियान पखवाड़ा के अंतर्गत जिला स्वास्थ्य समिति के प्रांगण में शुक्रवार को परिवार नियोजन पखवाड़े का शुभारंभ किया गया। इस मौके पर सिविल सर्जन डॉ राकेश चंद्र सहाय वर्मा ने सभी प्रखंडों में जागरूकता के लिए केयर की मदद से ई-रिक्सा को हरी झंडी दिखाई। यह जागरूकता रथ सभी प्रखंडों के स्लम तथा दलित तथा महादलित बस्तियों में जाकर लोगों के बीच जागरूकता फैलाएगी। मौके पर सिविल सर्जन ने कहा मिशन परिवार विकास के तहत इस मेले में पुरुष और महिला दोनों की सहभागिता होनी चाहिए। यह मेला लोगों को परामर्श के साथ निःशुल्क गर्भनिरोधक साधनों को उपलब्ध कराएगा। यहां नसबंदी के अलावा परिवार नियोजन के और भी विकल्प मौजूद हैं। जिन लोगों को जिस भी तरीकों में रुचि है वे उस विधि का इस्तेमाल कर सकते हैं।
14 से 31 जनवरी तक परिवार नियोजन सेवा सप्ताह:
केयर डीटीएल मानस कुमार ने बताया 14 से 31 जनवरी तक परिवार नियोजन सेवा सप्ताह का आयोजन किया जाएगा। दंपति संपर्क पखवाड़े के दौरान आमजन में जागरूकता लाने के लिए सही उम्र में शादी, शादी के बाद कम से कम 2 साल के बाद पहला बच्चा, दो बच्चों में कम से कम 3 साल का अंतराल एवं प्रसव के बाद या गर्भपात के बाद परिवार नियोजन के स्थायी एवं अस्थायी साधनों पर जोर दिया जाएगा। अभियान के दौरान प्रत्येक उप स्वास्थ्य केंद्रों पर अंतरा कैंप का आयोजन भी किया जाएगा।
मार्च तक केयर चलाएगा प्रत्येक महीने 10 दिन का अभियान
केयर के डीटीएल मानस कुमार ने बताया कि इस परिवार नियोजन पखवाड़े में केयर एक महती भूमिका निभा रही है। केयर की मदद से मार्च तक प्रत्येक माह 10 दिन परिवार नियोजन पर अभियान चलाया जाएगा। जिसमें सभी प्रखंडों के टीकाकरण सत्रों पर एक बच्चे वाले योग्य दंपत्तियों की बैठक का आयोजन होना है। वहीं इसके साथ रैली का भी आयोजन किया जाएगा। मौके पर एसीएमओ डॉ एसके चौधरी,भीबीडी नियंत्रण पदाधिकारी डॉ रविन्द्र कुमार यादव, डीसीएम समरेन्द्र कुमार वर्मा, केयर डीटीएल मानस कुमार, डीटीओ एफपी मयंक कुमार सहित अन्य लोग मौजूद थे।
कोरोना काल में इन उचित व्यवहारों का करें पालन,-
– एल्कोहल आधारित सैनिटाइजर का प्रयोग करें।
– सार्वजनिक जगहों पर हमेशा फेस कवर या मास्क पहनें।
– अपने हाथ को साबुन व पानी से लगातार धोएं।
– आंख, नाक और मुंह को छूने से बचें।
– छींकते या खांसते वक्त मुंह को रूमाल से ढकें।

स्वदेशी टीके से होगा जिले में कोरोना पर प्रहार – तीन सत्रों पर पड़ेगा कोविड का पहला टीका – कुल 288 वायल हुए हैं प्राप्त

By | बिहार | No Comments

‌‌‌ स्वदेशी टीके से होगा जिले में कोरोना पर प्रहार
तीन सत्रों पर पड़ेगा कोविड का पहला टीका
कुल 288 वायल हुए हैं प्राप्त                         रिपोर्ट नसीम रब्बानी 
शिवहर । 15 जनवरी
जिला प्रशासन, जिला स्वास्थ्य समिति तथा सेंटर फॉर एडवोकेसी के सहयोग से समाहरणालय के सभागार में शुक्रवार को कोविड वैक्सिनेशन पर प्रेस वार्ता का आयोजन किया गया। वार्ता में जिलाधिकारी सज्जन आर ने कहा कि जिले में शनिवार से कोविड का टीकाकरण शुरु हो रही है। इसके लिए तीन सत्रों का चयन किया गया है। जो सदर अस्पताल ,शिवहर,प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र तरियानी एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पुरनहिया में हैं। एक सत्र पर अधिकतम 100 लोगों को टीका दिया जाएगा। प्रथम चरण के लिए कुल 2355 लाभार्थी हैं जिनमें से निजी स्वास्थ्य कें 124 चिकित्सक शामिल हैं। टीकाकरण के लिए चार टीकाकरण पदाधिकारी होंगे। जिन्हें चयनित कर प्रशिक्षण दिया जा चुका है। एक वायल से 10 व्यक्तियों को टीका दिया जा सकेगा। यह टीका इंद्रामस्क्ल्यूर होगा। टीके को एक बार खोलने पर चार घंटे तक यूज किया जा सकेगा। एक बार टीके लेने के 28 दिन बाद उसी कंपनी का टीका दिया जाएगा। दूसरो डोज के 15 दिन बाद एंटीबॉडी का निर्माण होना शुरु होगा।
जिला को प्राप्त हुए 288 वायल वैक्सिन
सिविल सर्जन डॉ आरपी सिंह ने कहा कि जिले में कोविड वैक्सिनेशन को कुल 288 वायल प्राप्त हुए हैं। जिससे 2880 लाभार्थी को टीका दिया जा सकता है। टीकाकरण के लिए तीन कमरा चिन्हीत रहेगा। जिसमें पहला प्रतिक्षा कक्ष एवं तीसरा अवलोकन कच चिन्हति रहेगा। कोविड के टीकाकरण हेतु लाभार्थी की सूची कोविन पोर्टल से उपलब्ध कराया जाएगा। टीकाकरण के बाद 30 मिनट तक लाभार्थी को अवलोकन कच में चिकित्सकीय देख रेख में रखा जाएगा। ताकि किसी भी प्रतिकूल प्रभाव होने पर उसे त्वरित उपचार किया जा सके। टीकाकरण के प्रतिकूल प्रभाव चिकित्सक एवं पारामेडिकल कर्मी प्रतिनियुक्त रहेगें। ज्यादा प्रतिकूल प्रभाव पर एसकेएमसीएच भी भेजने की व्यवस्था होगी।

टीकाकरण का होगा प्रचार -प्रसार
कोविड टीकाकरण के प्रचार प्रसार हेतु आइइसी गतिविधियों के अंतर्गत स्वास्थ्य संस्थानों में फ्लैक्स , बैनर, पोस्टर की उपलब्धता कराई गई है ताकि स्थल पर आवश्यकतानुसार इसे उपयोग में लाया जा सके। इसके अतिरिक्त फ्लैक्स का अधिष्ठापन अन्य सार्वजनिक स्थलों पर प्रचार प्रसार हेतु उपयोग किया जा रहा है ।
आरआइ और रविवार को नहीं पड़ेगा टीका
सिविल सर्जन ने कहा कि कोविड टीकाकरण शनिवार को होने के बाद सोमवार से प्रत्येक पीएचसी पर होगा। यह टीका सप्ताह में सोमवार, मंगलवार, गुरुवार तथा शनिवार को पड़ेगा। वार्ता में जिलाधिकारी सज्जन आर, सिविल सर्जन डॉ आरपी सिंह, सीफार के प्रतिनिधि मौजूद थे।

परिवार नियोजन मेला का हुआ आयोजन, विभिन्न साधनों की दी गयी जानकारी • सिविल सर्जन ने किया उद्घाटन • मेले में लगाए गए कुल 10 स्टॉल • मुफ्त में बांटे गये कंडोम और गर्भ निरोधक गोलियां

By | बिहार | No Comments

परिवार नियोजन मेला का हुआ आयोजन, विभिन्न साधनों की दी गयी जानकारी
• सिविल सर्जन ने किया उद्घाटन
• मेले में लगाए गए कुल 10 स्टॉल
• मुफ्त में बांटे गये कंडोम और गर्भ निरोधक गोलियां

मुजफ्फरपुर, 14जनवरी।
मिशन परिवार विकास अभियान पखवाड़ा के अंतर्गत सदर अस्पताल में गुरुवार को परिवार नियोजन पखवाड़े का शुभारंभ किया गया। मेले का विधिवत उद्घाटन सिविल सर्जन डॉ. शैलेश प्रसाद सिंह ने किया । मौके पर सिविल सर्जन ने कहा मिशन परिवार विकास के तहत इस मेले में पुरुष और महिला दानों की सहभागिता होनी चाहिए। यह मेला लोगों को परामर्श के साथ निःशुल्क गर्भनिरोधक साधनों को उपलब्ध कराएगा। यहां नसबंदी के अलावा परिवार नियोजन के और भी विकल्प मौजूद हैं। जिन लोगों को जिस भी तरीकों में रुचि है वे उस विधि का इस्तेमाल कर सकते हैं। मेले में कुल दस स्टाल लगाये गये हैं। मेले में लगे सभी स्टाल में प्रशिक्षित नर्स लोगों का मागदर्शन करेगीं। हरेक स्टाल पर परिवार नियोजन के लिए स्थायी और अस्थायी दोनों तरह की सुविधाएं हैं।
अपर मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. विनय कुमार शर्मा ने बताया कि अभियान के तहत आशा योग्य दंपत्तियों से जाकर मिलेगीं और परिवार नियोजन के विभिन्न साधनों के बारे में जानकारी भी देंगी।
14 से 31 जनवरी तक परिवार नियोजन सेवा सप्ताह:
डीसीएम राजकिरण ने बताया 14 से 31 जनवरी तक परिवार नियोजन सेवा सप्ताह का आयोजन किया जाएगा। दंपति संपर्क पखवाड़े के दौरान आमजन में जागरूकता लाने के लिए सही उम्र में शादी, शादी के बाद कम से कम 2 साल के बाद पहला बच्चा, दो बच्चों में कम से कम 3 साल का अंतराल एवं प्रसव के बाद या गर्भपात के बाद परिवार नियोजन के स्थायी एवं अस्थायी साधनों पर जोर दिया जाएगा। अभियान के दौरान प्रत्येक उप स्वास्थ्य केंद्रों पर अंतरा कैंप का आयोजन भी किया जाएगा। के
सिविल सर्जन ने लक्ष्य किया निर्धारित
परिवार नियोजन मेले का उद्घाटन के दौरान सिविल सर्जन ने प्रत्येक पीएचसी को 5 एनएसभी और 20 बंध्याकरण का लक्ष्य भी दिया है। वहीं जागरूकता के लिए बैनर, पोस्टर, पंपलेट तथा दिवाल लेखन पर जोर दिया। सिविल सर्जन ने कहा कि जिले ने परिवार नियोजन में काफी दिलचस्पी दिखाई है। ऐसे लोग जिन्होंने स्थायी और अस्थायी साधानों में से किसी एक विकल्प को चुन परिवार नियोजन को बढ़ावा दिया उनके प्रतिशत में पिछले पांच वर्षों में 56.9 की बढ़ोतरी हुई है। वहीं प्रत्येक प्रखंड में जागरूकता के लिए दो वाहनों से माइकिंग की व्यवस्था भी की गई है। मौके पर सिविल सर्जन डॉ शॅलेश प्रसाद सिंह, एसीएमओ डॉ विनय कुमार शर्मा, डीआइओ डॉ एके पांडेय, डीपीएम बीमी वर्मा, डीसीएम राजकिरण, केयर डीटीएल सौरभ तिवारी समेत अन्य स्वास्थ्यकर्मी मौजूद थे।

13 سالہ نفیسہ، اور 7 سالہ ناظر، نم آنکھوں کے ساتھ سپردخاک مہوا ویشالی/شبانہ فردوس / چہرہ کلاں بلاک کے تحت محمد پور گنگھٹی باشندہ محمد نصیر انصاری کا 13 سالہ نفیسہ پروین اور 7 سالہ ناظر حشمت کا گزشتہ روز مہوا بازار کے پاس ایل آئی سی دفتر کے سامنے سڑک حادثہ کے شکار ہونے سے موت ہوگئی جن کی جنازے کی نماز کثیر تعداد میں ادا کر گاؤں کے قبرستان میں میں لوگوں نے نم آنکھوں کے ساتھ سپردخاک خاک کیا ان کی جنازے کی نماز مولانا محمد اکبر علی اشرفی نے پڑھائی دل دہلانے والا حادثہ ننھا منا 7 سالہ ناظر حشمت اور ننھی منی 13 سالہ نفیسہ پروین بچی سگے بھائی بہن کی موت کو سن کر کثیر تعداد میں سیاسی سماجی ملی لوگوں نے شرکت کر لواحقین کے لئے صبر جمیل کی دعا کی اس موقع سے جد یو اقلیتی سیل کے ریاستی سیکریٹری امتیاز عادل نے غم کے ساتھ نمائندہ سے گفتگو کرتے ہوئے سرکار سے مانگ کی کے لواحقین کے والد کو 3000000 تیس لاکھ روپے کا معاوضہ کے ساتھ نفیسہ پروین اور ناظر حشمت کے والد محمد نصیر کو سرکاری نوکری دینے کی بات کہی انہوں نے یہ بات واضح ہوکہ کر کہا کہ والد محمد نصیر کی حالات پچھلے دنوں سے ہی خراب چل رہا تھا مزدوری کے ساتھ خاندان کو کسی طرح چلا رہا تھا اور اس حادثے میں بری طرح زخمی ہوئے ہیں جس سے دماغی توازن کھو بیٹھا ہے ایسی صورت میں سرکار کو چاہئے کہ غریب بے سہارا کو پوری طرح سرکار مددگار بنے انکے علاوہ موجود مکھیا عارف حسن،مکھیا پتی منوج راۓ ،ڈاکٹر فیروز،ڈاکٹر نعیم ، صحافی اعجاز عادل،افضل انصاری ، ارشد انصاری ،حافظ تنویر ،خورشید عالم ،راجد لیڈر عبد القدوس نے بھی یہی مانگ کی۔ فوٹو میل پر ہے

By | बिहार | No Comments

13 سالہ نفیسہ، اور 7 سالہ ناظر، نم آنکھوں کے ساتھ سپردخاک

مہوا ویشالی/شبانہ فردوس / چہرہ کلاں بلاک کے تحت محمد پور گنگھٹی باشندہ محمد نصیر انصاری کا 13 سالہ نفیسہ پروین اور 7 سالہ ناظر حشمت کا گزشتہ روز مہوا بازار کے پاس ایل آئی سی دفتر کے سامنے سڑک حادثہ کے شکار ہونے سے موت ہوگئی جن کی جنازے کی نماز کثیر تعداد میں ادا کر گاؤں کے قبرستان میں میں لوگوں نے نم آنکھوں کے ساتھ سپردخاک خاک کیا ان کی جنازے کی نماز مولانا محمد اکبر علی اشرفی نے پڑھائی دل دہلانے والا حادثہ ننھا منا 7 سالہ ناظر حشمت اور ننھی منی 13 سالہ نفیسہ پروین بچی سگے بھائی بہن کی موت کو سن کر کثیر تعداد میں سیاسی سماجی ملی لوگوں نے شرکت کر لواحقین کے لئے صبر جمیل کی دعا کی اس موقع سے جد یو اقلیتی سیل کے ریاستی سیکریٹری امتیاز عادل نے غم کے ساتھ نمائندہ سے گفتگو کرتے ہوئے سرکار سے مانگ کی کے لواحقین کے والد کو 3000000 تیس لاکھ روپے کا معاوضہ کے ساتھ نفیسہ پروین اور ناظر حشمت کے والد محمد نصیر کو سرکاری نوکری دینے کی بات کہی انہوں نے یہ بات واضح ہوکہ کر کہا کہ والد محمد نصیر کی حالات پچھلے دنوں سے ہی خراب چل رہا تھا مزدوری کے ساتھ خاندان کو کسی طرح چلا رہا تھا اور اس حادثے میں بری طرح زخمی ہوئے ہیں جس سے دماغی توازن کھو بیٹھا ہے ایسی صورت میں سرکار کو چاہئے کہ غریب بے سہارا کو پوری طرح سرکار مددگار بنے انکے علاوہ موجود مکھیا عارف حسن،مکھیا پتی منوج راۓ ،ڈاکٹر فیروز،ڈاکٹر نعیم ، صحافی اعجاز عادل،افضل انصاری ، ارشد انصاری ،حافظ تنویر ،خورشید عالم ،راجد لیڈر عبد القدوس نے بھی یہی مانگ کی۔

فوٹو میل پر ہے

مرکزی اور متعلقہ جموں کشمیر سرکار کب تک جھوٹے دعوای کریں گے ۔ پہلی بار جموں کشمیر کے ضلع بارہمولہ کے ایک گاؤں میں منہ بند کرکے احتجاج۔ سید مشتاق جموں کشمیر

By | बिहार | No Comments

مرکزی اور متعلقہ جموں کشمیر سرکار کب تک جھوٹے دعوای کریں گے ۔
پہلی بار جموں کشمیر کے ضلع بارہمولہ کے ایک گاؤں میں منہ بند کرکے احتجاج۔
سید مشتاق جموں کشمیر

SKK News 13/01/21

مرکزی اور جموں و کشمیر کی سرکار انتظامیہ میں بیٹھے افسران اگرچہ اس بات کا دعوی کرتے رہتے ہیں کہ انہوں نے عام لوگوں کو سہولیات پہنچانے میں کوئی کسر باقی نہیں رکھی ہے وہیں جب زمینی سطح پر دیکھا جائے تو سب کچھ دکھاوا اور نا مکمل لگتاہے ایسا بہت جگہوں پر جموں کشمیر میں دیکھنے کو ملتا ہے آج ایک گاؤں ضلع بارہمولہ کشمیر جس کا نام کرالہ پورہ ہے جو کنزر تحصیل کے ساتھ وابستہ ہے کرالہ پورہ کے اس گاؤں میں صرف 400 کی آبادی ہے جن کو بنیادی سہولیات سے محروم رکھا گیا ہے۔ محکمہ ہا کی جانب سے اگرچہ ایک دہائی پہلے اس گاؤں کے لیے رابطہ سڑک بنائی گئی مگر افسوس اس بات کا ہے کہ آج تک عوام کے چلنے پھرنے کے لائیق نہ بنی علاقائی لوگوں نے آج انتظامیہ کے خلاف ایک انوکھا منہ بند مظاہرہ کیا جس سے اس بات کا اندازہ لگایا جاسکتا ہے کہ سننے والا کوئی نہیں ہے۔
علاقائی لوگوں نے میڈیا سے بات کرتے ہوئے کہا کہ انہوں نے انتظامیہ سے پچھلے کئی سالوں سے ایک میڈیکل ڈسپنسری کی مانگ کی مگر کوئی شنوائی نہ ہوئی انہوں نے مزید کہا کہ علاقے میں بنا پانی سپلائی اور بنا بجلی کی وجہ سے کافی مشکلات کا سامنا کرنا پڑتا ہے
واضح رہے یہ گاؤں بارہمولہ سے گلمرگ جانے والی شاہراہ سے محض آٹھ کلومیٹر کی دوری پر واقع ہے۔کرالہ پورہ کے عوام نے ایک بار پھر انتظامیہ سے گزارش کی ہے کہ اس گاؤں کے مسائل حل کیے جائیں تاکہ انہیں بھی ان سردی کے ایام میں مشکلات سے نجات مل سکے۔ اور سڑک پانی بجلی و پاور کا انتظام کیا جائے۔

कोविड टीकाकरण की तैयारी पूरी, व्यवस्थाओं की हो रही समीक्षा • बुधवार को राज्य को अतिरिक्त 20,000 डोज कोवेक्सीन टीका प्राप्त • कोविड टीकाकरण सुरक्षित, एईएफआई किट भी होगा उपलब्ध • राज्य के 300 चिन्हित स्थलों के दलकर्मियों को दिया गया प्रशिक्षण

By | बिहार | No Comments

कोविड टीकाकरण की तैयारी पूरी, व्यवस्थाओं की हो रही समीक्षा

बुधवार को राज्य को अतिरिक्त 20,000 डोज कोवेक्सीन टीका प्राप्त
कोविड टीकाकरण सुरक्षित, एईएफआई किट भी होगा उपलब्ध
राज्य के 300 चिन्हित स्थलों के दलकर्मियों को दिया गया प्रशिक्षण।                        रिपोर्ट नसीम रब्बानी

पटना/13, जनवरी: राज्य में कोविड टीकाकरण की तैयारी पूरी कर ली गयी है. 16 जनवरी से कोविड-19 टीकाकरण का कार्य चरणबद्ध तरीके से पूरे राज्य में शुरू किया जायेगा. पूरे राज्य में 300 चिन्हित स्थानों पर टीकाकरण किया जाएगा। इन 300 चिन्हित स्थलों में प्राय: सभी मेडिकल कॉलेज एवं जिला अस्पताल शामिल हैं। बुधवार को इन सभी 300 चिन्हित स्थलों के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी एवं दलकर्मियों को प्रशिक्षित किया गया। इस प्रशिक्षण में सभी जिलों के जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी एवं जिला मुल्यांकन एवं अनुश्रवण पदाधिकारी भी शामिल थे।

राज्य सरकार और स्वास्थ्य विभाग टीकाकरण प्रक्रिया को सुचारू रूप से संचालित करने के लिए सारी व्यवस्थाओं की प्रतिदिन समीक्षा कर रही है. राज्य को स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा 10 डोज वाली 54,900 वायल्स कोविशिल्ड वैक्सीन प्राप्त हो चुकी है और इसके भंडारण एवं जिलों में भेजने की तैयारी भी पूरी कर ली गई है. बुधवार को केंद्र द्वारा वैक्सीन की और 20,000 डोज़ कोवेक्सीन टीके की आपूर्ती बिहार राज्य को करवाई गई है। राज्य में पटना स्थित राज्य वैक्सीन भंडार के अलावा 9 और क्षेत्रीय वैक्सीन भंडार यथा सारण, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, दरभंगा, सहरसा, भागलपुर, पूर्णियां, नालंदा एवं औरंगाबाद में इस वैक्सीन का भंडारण किया जा रहा है

टीकाकरण के लिए कोविन पोर्टल पर निबंधन अनिवार्य:
चयनित समूह के लोगों को टीकाकरण का लाभ उठाने के लिए कोविन पोर्टल पर अपना निबंधन अनिवार्य रूप से करना होगा ताकि पंजीकृत मोबाइल नंबर पर एसएमएस के माध्यम से वैक्सीनेशन और उसके निर्धारित समय के बारे में स्वास्थ्य विभाग द्वारा सूचना दी जा सके। पंजीकरण के लिए लाभार्थी को फोटो युक्त पहचान पत्र देना होगा. पहचान पत्र में बैंक व पोस्ट ऑफिस के पासबुक सहित केंद्र, राज्य सरकार या पब्लिक लिमिटेड कंपनियों द्वारा जारी सेवा आईडी कार्ड शामिल किये गये हैं. इसके अलावा विधायकों या एमएलसी को जारी आधिकारिक प्रमाणपत्र भी सूची में शामिल हैं.

पंजीकरण के लिए ये कागजात हैं महत्वपूर्ण्:
आधार, ड्राइविंग लाइसेंस, वोटर आइडी, पैन कार्ड
पासपोर्ट, जॉब कार्ड, पेंशन दस्तावेज मनरेगा कार्ड
स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी स्वास्थ्य बीमा स्मार्ट कार्ड

टीकाकरण के लिए निम्न चरणों का पालन जरूरी:
लाभार्थी को कोविड टीकाकरण के लिए पंजीकरण कराना आवश्यक है. पंजीकरण कराने के लिए उचित फोटो आईडी का उपयोग कर कोविन सिस्टम में पंजीकरण कराएँ. लाभार्थी पंजीकृत मोबाइल नंबर पर प्राप्त एसएमएस की पुष्टि कर निर्देशों का पालन करेंगे. वहीं सत्र स्थल पर टीकाकरण अधिकारी-1 लाभार्थी का फोटो आईडी और पंजीकरण सन्देश की जांच करेंगे. टीकाकरण अधिकारी-2 कोविन सिस्टम से दस्तावेजों को प्रमाणित करेंगे. इसके बाद लाभार्थियों को टीका लगाया जायेगा. इसके बाद टीकाकरण अधिकारी-4 और 5 सुनिश्चित करेंगे कि लाभार्थी टीकाकरण के उपरान्त 30 मिनट तक रुके. साथ ही वह गैर पंजीकृत लाभार्थियों का मार्गदर्शन भी करेंगे.

लाभार्थी को इन बातों का रखना है ध्यान:
• चयनित लाभार्थी सत्र स्थल पर उचित फोटो आइडी अपने पास रखें
• टीका लगने के बाद निर्धारित क्षेत्र में 30 मिनट तक रुकना है
• दूसरा टीका लगवाने के लिए एसएमएस के अनुसार दी तारीख पर आएं

कोविड-19 वैक्सीन सभी के लिए सुरक्षित:
कोविड का टीका सभी के लिए सुरक्षित है और इसे लगवाने के लिए स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने पोस्टर जारी कर जनमानस को इसके तरीकों से अवगत कराया है. मंत्रालय ने कहा है कि कोविड वैक्सीन आवश्यक प्रक्रियाओं से गुजरने का बाद ही स्वीकृत की गयी है और पूर्णत: सुरक्षित है। चरणवार तरीके से इसे सभी को उपलब्ध कराने की सरकार की योजना है. टीकाकरण के पश्चात लाभार्थी को किसी प्रकार की होने वाली परेशानी के प्रबंधन के लिए सत्र स्थल पर एनाफलीसिस किट एवं एईएफआई किट पर्याप्त संख्या में उपलब्ध होगी. इसके लिए संबंधित टीकाकर्मी व चिकित्सकों को आवश्यक प्रशिक्षण दिये गये हैं.

मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य सुदृढीकरण के लिए जिला सदैव तत्पर: डॉ एपी सिंह – पिछले पांच वर्षो में संस्थागत प्रसव में 16.6 प्रतिशत की वृदि्ध – जिले के 68.3 प्रतिशत बच्चों के पास टीकाकरण कार्ड – सेन्टर फ़ॉर एडवोकेसी एंड रिसर्च द्वारा मीडिया कार्यशाला का हुआ आयोजन

By | बिहार | No Comments

मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य सुदृढीकरण के लिए जिला सदैव तत्पर: डॉ एपी सिंह

– पिछले पांच वर्षो में संस्थागत प्रसव में 16.6 प्रतिशत की वृदि्ध
– जिले के 68.3 प्रतिशत बच्चों के पास टीकाकरण कार्ड
– सेन्टर फ़ॉर एडवोकेसी एंड रिसर्च द्वारा मीडिया कार्यशाला का हुआ आयोजन

मोतिहारी, 13 जनवरी
जिला स्वास्थ्य समिति के सभागार में बुधवार को सेन्टर फ़ॉर एडवोकेसी एंड रिसर्च के सहयोग से जिला स्वास्थ्य समिति द्वारा सुरक्षित प्रसव, टीकाकरण एवं परिवार नियोजन सेवाओं पर मीडिया कार्यशाला का आयोजन किया गया । इस कार्यशाला का विधिवत उद्घाटन सिविल सर्जन डॉ अखिलेश्वर प्रसाद सिंह ने किया। मौके पर उन्होंने कहा कि जिला स्वास्थ्य समिति पूर्वी चंपारण सभी तरह की स्वास्थ्य सेवा के लिए तत्पर है। किसी भी स्वास्थ्य सेवा का आधार वहां के मातृ एवं शिशु का निम्न मृत्युदर है। जिसमें पूर्वी चंपारण का प्रयास काफी सराहनीय रहा है। पिछले पांच वर्षो के दौरान संस्थागत प्रसव 44.9 से बढ़कर 61.5 पर पहुंच गया है। वहीं जिले के 12 से 23 महीने के वैसे बच्चे जिनके टीकाकरण कार्ड हैं और टीका ले रहे हैं का प्रतिशत भी 49.3 से बढ़कर 68.3 हो गया है। सदर अस्पताल में कमजोर तथा गंभीर बच्चों के इलाज के लिए एसएनसीयू की व्यवस्था है। जहां सभी तरह के उपचार नि:शुल्क हैं।

वहीं डीपीएम अमित अचल ने जिले में चल रही योजनाओं के बारे में विस्तार से जानकारी दी तथा बताया कि कोविड के बावजूद जिले ने अपने प्रसव के लक्ष्य का 40 प्रतिशत प्राप्त कर लिया है। डीसीएम नंदन कुमार झा ने मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य में आशा कार्यकर्ताओं की भूमिका पर प्रकाश डाला। सेंटर फॉर एडवोकेसी एंड रिसर्च के सहायक राज्य कार्यक्रम प्रबंधक रंजीत कुमार ने कहा कि सुरक्षित प्रसव , टीकाकरण एवं परिवार नियोजन कार्यक्रम ही मातृ स्वास्थ्य, शिशु स्वास्थ्य एवं प्रजनन स्वास्थ्य की आधारशिला है। इससे संबंधित सूचनाओं को समुदाय में प्रसारित करने की आवश्यकता है। वहीं मातृ एवं शिशु मृत्युदर में कमी लाने में भी स्वास्थ्य संचार की महती भूमिका होती है।

14 जनवरी से चलेगा परिवार नियोजन पखवाड़ा:
कार्यशाला के दौरान केयर डीटील अभय कुमार ने कहा कि 14 से 31 जनवरी तक जिले में परिवार नियोजन पखवाड़ा का आयोजन होना है। इसके लिए प्रखंड स्तर पर दो वाहनों से माइकिंग की व्यवस्था की गई है। यह वाहन महादलित, स्लम एरिया में घूमेगा और लोगों को परिवार नियोजन पर जागरूक करेगा । जिले में अनचाहे गर्भ में भी कमी आयी है। पिछले पांच सालों में 9.5 प्रतिशत की कमी आयी है। वहीं जिले में परिवार नियोजन के तरीकों में जबरदस्त उछाल आया है। 2015-16 में यह जहां 5.5 था वहीं 2019-20 में यह 49.9 प्रतिशत हो गया है। यहां महिलाओं ने परिवार नियोजन के साधनों में काफी दिलचस्पी दिखायी है।

शनिवार से लगेगा पहला कोविड का टीका
जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ शरत चंद्र शर्मा ने कोविड के पहले टीके के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि पहले चरण के लिए कुल 22000 निजी व सरकारी कर्मचारियों को सूचीबद्ध किया गया है , जिन्हें पहले से चयनित 11 सत्रों पर टीका लगया जाएगा। इन टीकाकरण सत्रों में 9 सरकारी तथा दो निजी नर्सिंग होम हैं। जिले में बुधवार को कोविड वैक्सीनेशन की पहली खेप पहुंच गयी है। डॉ एससी शर्मा ने बताया कि मांग से 10 प्रतिशत अधिक टीका जिले में पहुंच चुका है। प्रत्येक भाइल में से 10 व्यक्तियों को टीका लगाया जाएगा। सोमवार से प्रत्येक पीएचसी पर कोविड का टीका लगाया जाएगा। लोगों से अपील करते हुए डॉ शर्मा ने कहा कि कोविड के वैक्सीन आने पर भी सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क के नियमों का अनुपालन किया जाना जरूरी है। डीसीएम नंदन कुमार झा ने कहा कि वैक्सीन लगने के बाद भी कोरोना के मानकों का पालन करना होगा | मौके पर सिविल सर्जन डॉ अखिलेश्वर प्रसाद सिंह, जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ शरत चंद्र शर्मा, डीपीएम अमित अचल, एमएंडएनई ऑफिसर विनय कुमार सिंह , डीसीएम नंदन कुमार झा, सी-फार के अमित कुमार सिंह, श्रीकांत प्रसाद सिंह तथा अन्य लोग मौजूद थे।

गुजरात आयुवैदिक मेडिसिन से बनाई पीपीई किट का मैत्री क्लिनिक द्वारा वीना मूल्य वितरण और साथमे कोविड 19 विषय पर सेमिनार मे चर्चा* गुजरात बारडोली रिपोटर चंद्रकांत सी पूजारी की रिपोर्ट

By | बिहार, राज्य | No Comments

गुजरात आयुवैदिक मेडिसिन से बनाई पीपीई किट का मैत्री क्लिनिक द्वारा वीना मूल्य वितरण और साथमे कोविड 19 विषय पर सेमिनार मे चर्चा*

गुजरात बारडोली रिपोटर चंद्रकांत सी पूजारी की रिपोर्ट

गुजरात बारडोली। सरदार वल्लभ भाई पटेल की कर्मभूमि बारडोली के पास बारडोली आयुॅवेदिक एशोसियेशन ओर उमराख मल्टीनेशनल हास्पीटल के संयुक्त उपक्रम मे पोस्ट कोवोड-19 ओर आयुॅवेदिक पॉइन्ट ओफ वयु कोविड 19रोग को सुरक्षित के विषय पर आधारित आयोजित हुआ।
इस समारोह मे बारडोली आयुॅवेदिक एशोसियेशन के पमुख श्री डॉक्टर निखिल जोशीना डॉक्टर मेंबर और पेरामेडिकल स्टाफ का स्वागत किया।
उमराख हॉस्पिटल के सीईओ डॉ अजयभाई पटेल मुखिया महेमान और स्पीकर श्री डॉ प्रियंकभाई मोदी, श्री डॉ धवल चौधरी अने श्री डॉ अतुल
देसाई अने डॉ निखिल जोशी कोविंड 19 विषय पर अपने नॉलेज और एक्सपीरियंस का आदान प्रदान किया
उमराख हॉस्पिटल के सीईओ डॉ अजयभाई ने सुपर मल्टी स्पेशयालिटी हॉस्पिटल फेसिलिटी की जानकारी, कोविंद की जानकारी दी गई। डॉ अतुल देसाई ने आयुवैदिक मेडिसिन से वायरस के पर बहुत अच्छा रिजल्ट का रिसर्च पेपर प्रेजेंट किया। उशने बताया की आयुवेद सिद्धांत के पर हरेक व्यक्ति कोरोना के सामने स्वस्थ जीवन व्यतीत कर सकता है। “वस्त्र कैन बी शस्त्र ” इस विषय पे डॉ निखिल जोशी ने तैयार की गई हर्बल पीपीइ कीट से वाइरस – बेकटरिया के सामने हर व्यक्ति सुरक्षीत रहशता है। डॉ जोशी ने हर्बल पीपीई किट विना मुलीय वितरण किया गया इस किट का री -यूज़ कर सकता हे। पीपी इ क्लॉथ से बेडशीट, कुशन, कर्तन, एपऱन, हरेक चीज एन्टी बेक्टीरिया वायरस हो सकता है। डॉ जोशी ने कहा यह किट हर्बल मेडिसिन से की गई है जो बेक्टीरिया को ख़तम कर इम्युनिटी को बढ़त करती है। इस से आलावा स्किनडिजीज,टोक्सिंन, पोल्लुशन को कम कर वगेरे होर्मोन्स को बड़ाकर इम्युनो बढ़ाती है। अंत मे सभी डॉक्टर का आभार व्यक्ति किया।
रिपोटर चंद्रकांत सी पूजारी

शिक्षा – दीप ” बन समाज को रौशन करें छात्र : पुनीत किशोर रजक

By | बिहार, राज्य | No Comments

शिक्षा – दीप ” बन समाज को रौशन करें छात्र : पुनीत किशोर रजक
SKK न्यूज़ डेस्क
पटना सिटी:अध्यन के साथ समाजिक व सांस्कृतिक मूल्यों से भी रु- ब – रु हों छात्र । नई तकनीक
युग में युवा सैध्दान्तिक मूल्यों से दूर हो दिशाहीन हो गए हैं। नवीन संस्कृति को जानना ग़लत नहीं हैं ,लेकिन सांस्कृतिक मूल्यों को ना भूलें । विवेकानंद नें कहा था सबसे पहले यह जरूरी है कि छात्रों में राष्ट्रीय चरित्र का निर्माण होना चाहिए , जिससे वो सबका भला कर सकेगा । विवेकानंद जी के जीवन – दर्शन को आत्मसात करें युवा ये बातें आज मारवाड़ी उच्च मा. विद्यालय ,पटना सिटी में ” युवा दिवस ” के अवसर पर छात्रों को संबोधित करते हुए प्राचार्य पुनीत किशोर रजक नें कही । वरीय शिक्षक मनोज कुमार ने छात्रों को विवेकानंद के आध्यात्मिक पहलुओं के बारे में बताया । मौके़ पर जितेंद्र कुमार पाल , डी. पी. गुप्ता ,नितिन कुमार वर्मा , मसऊद जावेद ,
डा. शीला कुमारी ,तलत जहाँ , मेहरून निशा ईमाम नें भी उदगार व्यक्त किया । मंच संचालन नेक आलम नें किया , जबकि धन्यवाद ज्ञापन देव मुनि साह नें किया . इस आशय की जानकारी मीडिया प्रभारी
अनिल रश्मि नें दी.प्रारंभ में विवेकानंद के तैल चित्र
पर पुष्प मालाएं अर्पित की गई .