Breaking News

उत्तर प्रेदश:- योगी जी की विकास की राहें अपनी बदहाली पर आंसू बहा रही है !
उत्तर प्रेदश:- रंगरलियां मना रहे दो जोड़ो की हुई जमकर पिटाई
देश:- प्रधानमंत्री ने कहा कि सामान्य वर्ग के गरीबों के लिए 10 प्रतिशत आरक्षण विधेयक एक ऐतिहासिक कदम है जो गरीबों के लिए सरकार की प्रतिबद्धता को दर्शाता है
देश:- स्वच्छ भारत मिशन खुले में शौच से मुक्त भारत के लक्ष्य प्राप्ति की ओर
देश:- मेघालय में पहली ‘स्वदेश दर्शन’ परियोजना का उद्घाटन
देश:- रेल संरक्षा में भारत-जापान सहयोग के लिए रेलमंत्रालय ने चर्चा रिकॉर्ड पर हस्‍ताक्षर किये |
बिहारराज्य

महात्मा गांधी सेतु के अप-स्ट्रीम लेन के लोकार्पण से आवागमन होगा आसान : डॉ प्रेम कुमार

By July 31, 2020 No Comments

महात्मा गांधी सेतु के अप-स्ट्रीम लेन के लोकार्पण से आवागमन होगा आसान : डॉ प्रेम कुमार

पटना, 31 जुलाई। बिहार सरकार में कृषि, पशु एवं मत्स्य संसाधन मंत्री डॉ प्रेम कुमार ने एनडीए सरकार में बनाए गए सड़कों की व्याख्या करते हुए कहा कि एनडीए सरकार ने बिहार का कोना-कोना इन 15 वर्षों में नए सड़कों से जोड़ा है। एक वह समय था जब बिहार के किसी एक कोने से पटना शहर पहुंचने में दिनभर का समय लग जाता था जबकि आज वह 5-6 घंटों में ही संभव है। लालूजी के राज में पगडंडियों और सड़कों में कोई अंतर नहीं नज़र आता था दोनों एक जैसे ही जर्ज़र थे। हमारी सरकार ने गाँव-गाँव को सड़कों से जोड़ा है।

कृषि मंत्री ने कहा, “आज महात्मा गांधी सेतु के अप-स्ट्रीम लेन के सुपर-स्ट्रक्चर के प्रतिस्थापन का लोकार्पण हुआ। मुझे बताते हुए प्रसन्नता हो रही है कि अब उत्तर बिहार से दक्षिण बिहार जाने वालों के लिए आवागमन बहुत ही आसान हो जाएगा। इस पुल के बनने की ख़ुशी वह जनता अच्छी तरह जानती है जिसने ना जाने कितने घंटों के जाम को झेला है। 1743 करोड़ रुपए की लागत से बनने वाले इस पुल की लम्बाई 5575 मीटर है। बरसात के बाद पूर्वी दो लेन के जीर्णोद्धार का कार्य प्रारम्भ किया जाएगा। इसके अलावा भी इन 15 वर्षों में एनडीए सरकार ने अनगिनत सड़कों का निर्माण करवाया है। हमारी ही सरकार ने शेखपुरा से जगदेव पथ तक सूबे के सबसे बड़े फ्लाईओवर का निर्माण करवाया जिसकी कुल लंबाई 2350 मीटर (2.7 किलोमीटर) है। 321.39 करोड़ रुपए की लागत से बनने वाले इस पुल ने आवागमन काफी आसान बना दिया। दूसरी ओर बिहार के गोपालगंज जिले में 263 कराेड़ की लागत से सत्‍तरघाट पुल का निर्माण हमारी सरकार ने करवाया था। इस पुल ने बिहार और नेपाल की दूरी को कम कर दिया है। कुछ दिनों पहले तेजस्वी जी इस पुल के ढ़हने की भ्रामक खबर तेजी से फैला रहें थे लेकिन वह उसमे असफल रहें।”

डॉ कुमार ने कहा, “हम सिर्फ योजनाओं का शिलान्यास नहीं करते बल्कि
ससमय पूरा भी करते हैं। हम सिर्फ सड़क का निर्माण नहीं करते, बल्कि उसका मेंटनेंस का भी निरंतर ख्याल रखते हैं ।

कृषि मंत्री ने कहा, “गांधी सेतु के जीर्णोद्धार का कार्य तीन साल पहले हुआ था। इसे हावड़ा ब्रिज की तर्ज पर डिजाइन किया गया है। 2005 तक बिहार में पुलों की संख्या बहुत कम थी लेकिन आज यहाँ पुल-पुलिया तथा सड़कों का जाल बिछा हुआ है। लालू राज ने जितना परिवहन के क्षेत्र में बिहार को लाचार बना दिया था हमारी सरकार ने इसे उतना ही विकसित किया है।”

Leave a Reply