Breaking News

उत्तर प्रेदश:- योगी जी की विकास की राहें अपनी बदहाली पर आंसू बहा रही है !
उत्तर प्रेदश:- रंगरलियां मना रहे दो जोड़ो की हुई जमकर पिटाई
देश:- प्रधानमंत्री ने कहा कि सामान्य वर्ग के गरीबों के लिए 10 प्रतिशत आरक्षण विधेयक एक ऐतिहासिक कदम है जो गरीबों के लिए सरकार की प्रतिबद्धता को दर्शाता है
देश:- स्वच्छ भारत मिशन खुले में शौच से मुक्त भारत के लक्ष्य प्राप्ति की ओर
देश:- मेघालय में पहली ‘स्वदेश दर्शन’ परियोजना का उद्घाटन
देश:- रेल संरक्षा में भारत-जापान सहयोग के लिए रेलमंत्रालय ने चर्चा रिकॉर्ड पर हस्‍ताक्षर किये |
उत्तर प्रेदश

बागपत रटोल गांव में हो रही है घरों में अवैध मांस की बिक्री

By May 28, 2020 No Comments

रटौल गांव मे अवैध मांस की बिक्री जारी। घरो मे भी हो रहा है।अवैध कटान।

बागपत एस के के न्यूज राजीव शर्मा संवाददाता चांदीनगर करोना वायरस के चलते रटौल गांव को एक माह तक हाट स्पाट पर रखा गया था तब ग्रामीणो ने अपने आप को घरो मे कैद कर लिया था और करोना की चेन तोडने मे कामयाब रहे थे। ग्रामीणो ने जहा लाकडाउन का पालन किया वही अवैध पशु कटान भी जोरो पर रहा रटौल गांव मे प्रतिदिन लोनी गाजियाबाद से अवैध मांस लाकर रटौल गांव मे बेका जा रहा है। वह मास पालिथीन मे बंद होता है। और साफ सफाई का कोई पता नही होता है। पिछले हफ्ते पुलिस ने रटौल गांव मे अवैध कटान भी पकडा था। उसके बाद अवैध कटान और अवैध मासं की बिक्री वाले लोग सक्रिय हो गये है। रात्रि मे यह यह लोग कटान करते है।और सुबह पालिथीनो मे भरकर ब्रिक्री के लिए ले जाते है। उत्तर प्रदेश सरकार के अनुसार मुर्गे की बिक्री के लिए भी स्लाटर हाऊस से मुर्गे को कटावा कर बेकने के आदेश है। लेकिन गांव मे खुलेआम घरो मे मुर्गो का कटान भी जारी है। जबकि शासन ने स्लाटर बंद किये हुए है। और मांस की ब्रिक्री पर भी प्रतिबंध लगाया हुआ है। जहा प्रतिबंध नही है। वहा भी स्लाटर हाऊस से मासं लाकर बेकने की इजाजत है। रटौल ही नही पाचीं, ललियाना गांव मे भी मासं की अवैध बिक्री जारी है। जिसके चलते लोग बीमारी की चपेट मे भी आ सकते है। अवैध बिक्री करने वाले गेंग सुबह पाचं बजे सक्रिय हो जाते है। और लोनी से सुबह ही मासं लाकर सप्लाई शुरु कर देते है। और ऊचे दामो पर मासं की बिक्री करते है। ग्रामीणो ने प्रशासन से गांव मे अवैध मासं की ब्रिकी पर रोक लगाने की मांग की है।

राजीव शर्मा चांदीनगर संवाददाता
SKK न्यूज़ बागपत

Leave a Reply