Breaking News

उत्तर प्रेदश:- योगी जी की विकास की राहें अपनी बदहाली पर आंसू बहा रही है !
उत्तर प्रेदश:- रंगरलियां मना रहे दो जोड़ो की हुई जमकर पिटाई
देश:- प्रधानमंत्री ने कहा कि सामान्य वर्ग के गरीबों के लिए 10 प्रतिशत आरक्षण विधेयक एक ऐतिहासिक कदम है जो गरीबों के लिए सरकार की प्रतिबद्धता को दर्शाता है
देश:- स्वच्छ भारत मिशन खुले में शौच से मुक्त भारत के लक्ष्य प्राप्ति की ओर
देश:- मेघालय में पहली ‘स्वदेश दर्शन’ परियोजना का उद्घाटन
देश:- रेल संरक्षा में भारत-जापान सहयोग के लिए रेलमंत्रालय ने चर्चा रिकॉर्ड पर हस्‍ताक्षर किये |
उत्तर प्रेदशदेशबिहारराज्य

जदयू के लेटर पैड पर किया कंप्लेंन तो पटना जिला अधिकारी के द्वारा कार्यवाही शून्य।

By February 4, 2020 No Comments

जदयू के लेटर पैड पर किया कंप्लेंन तो पटना जिला अधिकारी के द्वारा कार्यवाही शून्य।


पटना सुशासन की सरकार में सब कुछ चलता है सही को गलत और गलत को सही यह आज के मायने सुशासन की सरकार में हो रही है। बताते चलें कि 9 दिसंबर 2019 को स्पीड पोस्ट के माध्यम से एक लिखित आवेदन पटना महानगर जनता दल यूनाइटेड के श्रमिक प्रकोष्ठ के लेटर हेड पर पटना जिला अधिकारी मिशन निर्देशक बिहार महादलित विकास मिशन पटना, जिला कल्याण पदाधिकारी को जांच उपरांत कार्रवाई करने की आवेदन भेजी गई थी। जिसकी अभी तक वरीय पदाधिकारी के द्वारा कार्यवाही शून्य और कार्रवाई पटना नगर निगम नूतन राजधानी वार्ड संख्या 11 के विकास मित्र नीतू कुमारी के कार्य में कोताही बरतने एवं माननीय मुख्यमंत्री के द्वारा चलाए जा रहे सात निश्चय योजना के अंतर्गत शौचालय निर्माण में अवैध रूप से रकम की उगाही करना जैसे बहुत से मामलों को लिखित आवेदन के द्वारा द्वारा श्रीमान जिलाधिकारी महोदय, मिशन निर्देशक, जिला कल्याण को लिखित आवेदन के द्वारा स्पीड पोस्ट के माध्यम से सूचना की गई थी। पर उस जदयू के लेटर पैड पर की गई कंप्लेन को पटना जिले के जिलाधिकारी अभी तक कार्यवाई करने से वंचित नजर आ रहे हैं। ऐसा प्रतीत होता है की सत्ता पक्ष में चल रही सरकार की लेटर पैड की गरिमा को प्रशासनिक पदाधिकारी नजर अंदाज करते हुए जदयू के लेटर पैड को डस्टबिन में फेंक दिया जाता होगा। इस वजह से अभी तक किसी भी पदाधिकारी के द्वारा वार्ड संख्या 11 के विकास मित्र कार्य में कोताही बरतने एवं मुख्यमंत्री के द्वारा चलाए गए सात निश्चय योजना के अंतर्गत शौचालय निर्माण जैसे कार्यों में अनियमितता पर कार्रवाई नहीं की गई हैं।और विकास मित्र का मनोबल दिनप्रतिदिन बढ़ता जा रहा है इतना ही नहीं अगर किसी वार्ड की जनता को विकास मित्र से काम पड़ता है वाह पहले मिलने से इंकार करती है एवं अगर मिल जाती है तो सरकार की बताई गई योजना को दिलाने के एवज में पहले राशि की डिमांड की जाती है एवं नहीं देने पर उन्हें अभद्र शब्द का प्रयोग कर कहा जाता है जहां जाना है वहां जा सकते हैं मुझे किसी भी पदाधिकारी से कोई डर नहीं है मैं खुद अनुसूचित जाति से आता हूं और महिला भी हूं इस कारण से मुझे किसी भी पदाधिकारी से कोई भय नहीं है। यह सभी शब्द सुनकर वार्ड की जनता सरकार के द्वारा दी गई योजनाओं का लाभ लेने से वंचित रह जाते हैं।

Leave a Reply