Breaking News

उत्तर प्रेदश:- योगी जी की विकास की राहें अपनी बदहाली पर आंसू बहा रही है !
उत्तर प्रेदश:- रंगरलियां मना रहे दो जोड़ो की हुई जमकर पिटाई
देश:- प्रधानमंत्री ने कहा कि सामान्य वर्ग के गरीबों के लिए 10 प्रतिशत आरक्षण विधेयक एक ऐतिहासिक कदम है जो गरीबों के लिए सरकार की प्रतिबद्धता को दर्शाता है
देश:- स्वच्छ भारत मिशन खुले में शौच से मुक्त भारत के लक्ष्य प्राप्ति की ओर
देश:- मेघालय में पहली ‘स्वदेश दर्शन’ परियोजना का उद्घाटन
देश:- रेल संरक्षा में भारत-जापान सहयोग के लिए रेलमंत्रालय ने चर्चा रिकॉर्ड पर हस्‍ताक्षर किये |
बिहारराज्य

कृषि बिभाग एवं आशीष परियोजना के द्वारा रक्सौल प्रखण्ड के किसानों को श्रीविधि से किसानों को प्रेरित कर खेती करने में लागत कम और पौदावार में तीन गुना बढ़ोतरी होगी।

By June 30, 2020 No Comments

कृषि बिभाग एवं आशीष परियोजना के द्वारा रक्सौल प्रखण्ड के किसानों को श्रीविधि से किसानों को प्रेरित कर खेती करने में लागत कम और पौदावार में तीन गुना बढ़ोतरी होगी।

रिपोर्ट:- मो० मिन्नतुल्लाह

मोतिहारी/रकसौल:- भारत देश एक कृषि प्रधान देश है, और हमारे देश की युवा किसान खासकर कृषि के ऊपर ही निर्भर है । लेकिन आजकल हमारे देश मे खेतीबारी में ज्यादा मात्रा में रसायनिक खाद के इस्तेमाल के कारण हमारी खेती की उपजाऊपन में दिन प्रतिदिन खिलखिलाहट हो रही है, और इस वजह से हम प्रतिदिन तरह तरह के बीमारियों का शिकार होते जा रहे हैं, जिसका प्रमुख कारण रसायनिक खाद का इस्तेमाल और नए तकनीक से खेती करने की गुणवत्ता का अभाव होता है। इस प्रकार रसायनिक खाद के चलते आने वाले समय में कृषि से संबंधित समस्याओं को देखते हुए कृषि बिभाग रक्सौल एवं आशीष परियोजना डंकन अस्पताल रक्सौल के द्वारा रक्सौल प्रखण्ड के किसानों के साथ नई विधि ( श्री विधि) से किसानों को पारितोषिक-पात्र से खेती करने के लिए प्रेरित किया गया। और उन्हे यह जानकारी और तकनीकी दी गई कि, श्रीविधि से खेती करने में लागत कम और उपज तीन गुना बढ़ोतरी होगा। इस तरह किसानों को इसके लिए कृषि विज्ञान केंद्र के द्वारा किसानों को नई तकनीक का प्रशिक्षण दिया गया और किसानों उससे सोच और समझकर यह निर्णय लिए की हम लोग भी जैविक खाद का उपयोग करके नई तकनीक से खेती करेंगे और अपने मिट्टी को हरा भरा बनाकर उपज तीन गुना करेंगे । इसी प्रयास के साथ कृषि बिभाग रक्सौल और आशीष प्रोजेक्ट डंकन अस्पताल रक्सौल के सहयोग से हरनाही और भेलाही पंचायत के किसानों के बीच श्रीविधि से खेती कराया गया । बताया जाता है कि इस बिधि से खेती करने पर बिछड़ा , उर्वरक एवं अन्य लागत भी कम लगता है और उपज बहुत ज्यादा होती है । नई तकनीक से खेती कराने उधेश्य किसानों के बीच कृषि के नये तकनीक को विकसित करना है साथ ही साथ धीरे धीरे रसायनिक खाद का बहिष्कार कर जैविक खाद का उपयोग करना और तकनीक से किसानों को खेती कराना था ताकि उपज पहले से ज्यादा हो औऱ उनकी उनकी आर्थिक स्थिति मजबूत हो और कृषि के नये गुणवत्ता का विकाश हो । मौके पर कृषि विभाग के साथ साथ मधु सिंह,किसान भिखारी राम,हरिश्चन्द्र राम एवं अन्य किसान उपस्थित

Leave a Reply